September 28, 2021 8:04 am
धर्म

आज का पंचांगः आज करें सूर्य देव की पूजा, ये है शुभ मुहूर्त, पूजा करने की विधी और मंत्र

Aaj Ka Panchang

आज 8 अगस्त यानि रविवार का दिन है। इस दिन सूर्य देव की पूजा की जाती है। सूर्य देव की पूजा करने से सुख-समृद्धि के साथ शत्रुओं का नाश होता है।

करें सूर्यदेव की पूजा

आज के दिन सूर्य देव की पूजा करनी चाहिए। प्राचीन वेदों में सूर्य का उल्लेख विश्व की आत्मा और ईश्वर के नेत्र के तौर पर किया गया है। सूर्य की पूजा से जीवनशक्ति, मानसिक शांति, ऊर्जा और जीवन में सफलता की प्राप्ति होती है। सूर्यदेव को उगते और डूबते दोनों तरह से अर्घ्य दिया जाता है।

इस मंत्र का करें जाप

ऊँ नमरू सूर्याय शान्ताय सर्वरोग निवारिणे।
आयु ररोग्य मैस्वैर्यं देहि देवरू जगत्पते।।

पूजा करने की विधि

सूर्य मंत्र का चमत्कारी लाभ प्राप्त करने के लिए इस तरह से जाप करें। सूर्य की उपासना के लिए सुबह जल्दी उठना चाहिए। रविवार को सूर्योदय से पहले नित्यक्रियाओं से निवृत्त होकर स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें। उगते हुए सूर्य के समक्ष खुले आकाश के नीचे आसन बिछाकर बैठें। सूर्य की ओर मुख करके अपनी आंखें बंद करके सूर्य का ध्यान करें और एक गहरी-लंबी सांस लें। अब इस तरह से भगवान सूर्य नारायण का ध्यान करें कि जैसे आपके रोम-रोम में उनका दिव्य प्रकाश प्रवेश कर रहा हो। इसी ध्यान अवस्था में लगभग 10 से 15 मिनट तक भगवान सूर्य नारायण का ध्यान करें। जब ध्यान की प्रक्रिया पूरी हो जाए तो तुलसी की माला से 251 बार इस मंत्र को बिना बोले अपने मन ही मन में जाप करें। जब मंत्र जाप पूर्ण हो जाए तो उसके बाद भगवान सूर्य को प्रणाम करके तांबे के लोटे में जल लेकर उसमें थोड़ा सा दूध और शक्कर डालकर अर्घ्य दें ।

 

 आज का पंचांग

आज की तिथि- अमावस्या – 19:21:46 तक
आज का नक्षत्र – पुष्य – 09:19:25 तक
आज का करण – चतुष्पाद – 07:21:52 तक, नाग – 19:21:46 तक
आज का पक्ष – कृष्ण
आज का योग – व्यतीपात – 23:36:49 तक
आज का वार – रविवार

 

आज सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय

सूर्योदय – 05:46:03
सूर्यास्त – 19:07:05
चन्द्रोदय – चन्द्रोदय नहीं
चन्द्रास्त – 19:18:59
चन्द्र राशि – कर्क

 

हिन्दू मास एवं वर्ष

शक सम्वत – 1943 प्लव
विक्रम सम्वत – 2078
काली सम्वत – 5123
दिन काल – 13:21:02
मास अमांत – आषाढ
मास पूर्णिमांत – श्रावण
शुभ समय – 11:59:52 से 12:53:16 तक

 

अशुभ मुहूर्त

दुष्टमुहूर्त – 17:20:17 से 18:13:41 तक
कुलिक – 17:20:17 से 18:13:41 तक
कंटक – 10:13:04 से 11:06:28 तक
राहु काल – 17:26:58 से 19:07:05 तक
कालवेला / अर्द्धयाम – 11:59:52 से 12:53:16 तक
यमघण्ट – 13:46:40 से 14:40:05 तक
यमगण्ड – 12:26:34 से 14:06:42 तक
गुलिक काल – 15:46:50 से 17:26:58 तक

Related posts

Eclipse 2021: मई से दिसंबर तक लगेंगे चार ग्रहण, इन बातों का रखें ध्यान?

Saurabh

गुरु पूर्णिमा 2021 : कल मनाई जाएगी गुरु पूर्णिमा, जानें इस पर्व का खास़ महत्व

Rahul

तो क्या ऐसे प्रकट हुई थी विद्या की देवी सरस्वती?

shipra saxena