featured धर्म

14 नवंबर 2021 का पंचांग : देवोत्थानी एकादशी का व्रत आज, जानें आज का शुभ मुहूर्त और राहुकाल

aaj ka panchang

ज्योतिष पंचांग के अनुसार आज 14 नवंबर 2021 रविवार का दिन कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि है। कार्तिक मास की इस एकादशी तिथि को देव उठनी एकादशी भी कहा जाता है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु 4 महीने की योग निद्रा के बाद जागे थे। साथ ही इस दिन तुलसी विवाह भी किया जाता है। हिंदू धर्म में तुलसी विवाह के साथ ही शुभ कार्य शादी, ,विवाह, समारोह आदि का भी आरंभ हो जाता है।

ये भी पढ़े : Dev Uthani Ekadashi 2021 : 14 या 15 नवंबर किस दिन रखा जाएगा देवोत्थानी एकादशी का व्रत, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्व

आज का पंचांग

विक्रम संवत – 2078, आनन्द

शक सम्वत – 1943, प्लव

पूर्णिमांत – कार्तिक

अमांत – कार्तिक

वार – रविवार

त्यौहार और व्रत देवोत्थानी एकादशी

तिथि

  • शुक्ल पक्ष एकादशी   – Nov 14 05:48 सुबह – Nov 15 06:39 सुबह
  • शुक्ल पक्ष द्वादशी   – Nov 15 06:39 सुबह  – Nov 16 08:01 सुबह

नक्षत्र

  • पूर्वभाद्रपदा – Nov 13 03:25 शाम  – Nov 14 04:31 शाम 
  • उत्तरभाद्रपदा – Nov 14 04:31 शाम  – Nov 15 06:09 शाम 

करण

  • वणिज – Nov 14 05:48 सुबह  – Nov 14 06:10 शाम 
  • विष्टि – Nov 14 06:10 शाम  – Nov 15 06:39 सुबह 
  • बव – Nov 15 06:39 सुबह  – Nov 15 07:17 शाम 

योग

  • हर्षण – Nov 14 02:16 सुबह  – Nov 15 01:44 सुबह 
  • वज्र – Nov 15 01:44 सुबह  – Nov 16 01:35 सुबह 

सूर्य और चंद्रमा का समय

  • सूर्योदय – 6:44 सुबह 
  • सूर्यास्त – 5:38 शाम 
  • चन्द्रोदय – Nov 14 2:57 शाम 
  • चन्द्रास्त – Nov 15 3:02 सुबह 

अशुभ काल

  • राहू – 4:16 शाम – 5:38 शाम 
  • यम गण्ड – 12:11 शाम  – 1:33 शाम 
  • कुलिक – 2:54 शाम  – 4:16 शाम 
  • दुर्मुहूर्त – 04:11 शाम  – 04:54 शाम 
  • वर्ज्यम् – 02:46 सुबह  – 04:29 सुबह 

शुभ काल

  • अभिजीत मुहूर्त – 11:49 सुबह  – 12:33 शाम 
  • अमृत काल – 08:09 सुबह  – 09:49 सुबह 
  • ब्रह्म मुहूर्त – 05:07 सुबह  – 05:55 सुबह 

 

Related posts

भगवान श्री कृष्ण को क्यों लेना पड़ा इंसानी रूप में जन्म?

Rozy Ali

जौलीग्राण्ट एयरपोर्ट पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आगमन पर सीएम रावत ने स्वागत किया

Rani Naqvi

नंदूरबार में भारत बंद के समर्थन में एसटी बस की तोड़फोड़

Rani Naqvi