featured धर्म

Sharad Purnima 2021:शरद पूर्णिमा की रात इस तरह करें मां लक्ष्मी की पूजा, घर में हमेशा बनी रहेगी मां की कृपा

Sharad Purnima 2021:शरद पूर्णिमा की रात इस तरह करें मां लक्ष्मी की पूजा, घर में हमेशा बनी रहेगी मां की कृपा

कहा जाता है कि शरद पूर्णिमा की रात को मां लक्ष्मी धरती लोक पर आती हैं,  साथ ही इसी दिन समुद्र मंथन के दौरान  मां लक्ष्मी की उत्पत्ति भी  हुई थी। आपको बता दें कि शरद पूर्णिमा पर मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है, इस दिन मां की पूजा विधि विधान से करके मां लक्ष्मी को  प्रसन्न किया जा सकता है।

इस बार 19 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा  पड़ने वाली है,   बता दें कि इसे कोजागरी पूर्णिमा भी कहा जाता है।

चलिये जानते हैं कि शरद पूर्णिमा पर आप कैसे मां लक्ष्मी को प्रसन्न कर सकते हैं:

-शरद पूर्णिमा के दिन  सुबह उठकर नहाकर सबसे पहले एक साफ चौकी पर लाल रंग का कपड़ा बिछाकर मां लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित करें।  इसके बाद मां की विधि- विधान से पूजा करने के बाद लक्ष्मी स्तोत्र का पाठ करें।  कहा जाता हैं कि अगर इस स्तोत्र का पाठ शरद पूर्णिमा के दिन किया जाये तो मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं जिससे आपका घर धन-धान्य से भरा रहता है।

पूजा में पान के इस्तेमाल को काफी महत्व दिया जाता है क्योंकि पान के पत्ते को पवित्र और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है।  इसलिए शरद पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी की पूजा में आपको पान जरुर शामिल करना चाहिये पूजा के बाद वो पान घर के सदस्यों में प्रसाद के रूप में बांटें।

साथ ही शरद पूर्णिमा के दिन सुबह उठकर घर की साफ-सफाई और नहाकर मां लक्ष्मी की पूजा करें और उन्हें सफेद मिठाई या फिर केसर की खीर का भोग मां को लगायें। शाम  के समय मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु की पूजा करें,  इससे मां लक्ष्मी के साथ श्री हरी की कृपा मिलती है।

मां लक्ष्मी की पूजा में  सफेद रंग की कौड़ियां रखें, कम से कम पांच कौड़ियों को पूजा में जरुर रखें।  पूजा के बाद इन कियों को लाल रंग के कपड़े में पोटली बनाकर अलमारी में रखें।

 

Related posts

भारत के हिस्सों को अपना बताने वाले नेपाल ने भारत के आगे टेके घुटनें, नया नक्शा विवाद से पीछे हटा नेपाल..

Mamta Gautam

राजस्थान चुनाव: टिकट के लिए बिछने लगी कांग्रेस में बिसात

mohini kushwaha

बुलंदशहर: युवती को बहाने से बुलाया, फिर पेट्रोल छिड़कर लगा दी आग, पढ़ें पूरी खबर

Shailendra Singh