dhananjay निष्पक्ष जांच की मांग वाली याचिका धनंजय सिंह ने वापस ली

राजधानी लखनऊ में अजीत सिंह हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। जिसके इस पूरी हत्याकांड को लेकर के सांसद धनंजय सिंह पर इस घटना को अंजाम देने का आरोप लगा था। इसके बाद से ही यूपी पुलिस धनंजय सिंह की तलाश कर रही थी। इसके बाद ही नाटकीय तरीके से प्रयागराज की एमपी एमएलए कोर्ट में धनंजय सिंह ने सरेंडर कर दिया था और निष्पक्ष जांच की मांग याचिका दायर की थी। लेकिन यह याचिका अब धनंजय सिंह की तरफ से वापस ले ली गई है।

याचिका में अजीत सिंह हत्याकांड की निष्पक्ष जांच की थी मांग

अजीत सिंह हत्याकांड में अभियुक्त बनाए गए पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने प्रयागराज के एमपी एमएलए कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। उसके बाद पूर्व सांसद धनंजय सिंह की तरफ से अजीत सिंह हत्याकांड मामले की निष्पक्ष जांच की मांग करने वाली याचिका दायर की गई। लेकिन अब यह याचिका वापस ले ली गई है। याचिका वापस लेने के बाद कोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया है। यह आदेश न्यायमूर्ति एआर मसूदी और न्यायमूर्ति आलोक माथुर की खंडपीठ ने धनंजय सिंह की याचिका पर पारित किया। अजीत सिंह हत्याकांड मामले की निष्पक्ष जांच करने की मांग वाली याचिका में पूर्व सांसद धनंजय सिंह की तरफ से कोर्ट में भेजी गई थी। उसको वापस लेने की मांग की धनंजय सिंह के वकील के द्वारा कोर्ट में की गई। इस दौरान काफी देर तक बहस चलती रही। इसके बाद पूर्व सांसद धनंजय सिंह के वकील ने याचिका को वापस लेने के बात  कही जिस पर कोर्ट ने इस बात को मानते हुए याचिका को खारिज कर दिया है।याची के वकील के द्वारा कोर्ट में कहा गया की याचिका को वापस किया जा रहा है। लेकिन भविष्य में यदि निष्पक्ष जांच ना होने के सबूत सामने आएंगे तो याची को याचिका दायर करने की स्वतंत्रता रहे। इस पर भी कोर्ट ने सहमति जताई है।

होली के त्योहार को देखते हुए सक्रिय हुआ दूध-खोए का मिलावटी गैंग!

Previous article

जेपी नड्डा के आवास पर बंगाल बीजेपी कोर ग्रुप की बैठक, उम्मीदवारों के नामों पर हो रही चर्चा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.