झारखण्ड के डीजीपी डीके पांडेय अलग-थलग, एडीजी ऑपरेशन मुरारी लाल ने खारिज की अलग होने की खबर

झारखण्ड के डीजीपी डीके पांडेय अलग-थलग, एडीजी ऑपरेशन मुरारी लाल ने खारिज की अलग होने की खबर

झारखण्ड। Lok Sabha Election 2019 – डीजीपी डीके पांडेय चुनाव कार्य से पूरी तरह मुक्त हैं। वे प्रतिदिन दफ्तर तो जा रहे हैं लेकिन उनके जिम्मे ज्यादा काम बचा नहीं है। उनकी सेवानिवृत्ति में भी अब चंद दिन शेष बचे हैं। वे 31 मई को सेवानिवृत्त हो जाएंगे।

जानकारी के अनुसार चुनाव के कारण सिर्फ चुनाव संबंधित कार्य हो रहे हैं। इसके लिए आइजी ऑपरेशन आशीष बत्रा झारखंड पुलिस की ओर से नोडल पदाधिकारी की भूमिका में हैं। उन्हें एडीजी ऑपरेशन मुरारी लाल मीणा सहयोग कर रहे हैं।

हालांकि चुनाव कार्य से डीजीपी को अलग करने की सूचना को एडीजी ऑपरेशन मुरारी लाल मीणा खारिज करते हैं। उन्होंने बताया कि चुनाव के लिए नियमत: आइजी ऑपरेशन को नोडल पदाधिकारी प्रतिनियुक्त किया गया है। जहां बल की प्रतिनियुक्तिया अन्य विभागीय निर्णय लेने होते हैं, वहां फाइल पर डीजीपी की सहमति ली जाती है। डीजीपी वर्तमान में भी झारखंड पुलिस का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। बिना उनकी सहमति के कोई नीतिगत निर्णय नहीं लिए जा सकते हैं।