September 25, 2022 1:40 am
Breaking News featured देश हेल्थ

फर्स्ट फेज में वैक्सीन देने की तैयारी में जुटी दिल्ली सरकार, इन विभागों के कर्मचारियों को भी किया फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में

bbd3efde fde1 45aa 997a f97c8618b545 फर्स्ट फेज में वैक्सीन देने की तैयारी में जुटी दिल्ली सरकार, इन विभागों के कर्मचारियों को भी किया फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में

नई दिल्ली। जैसा कि आप सभी जानते है कि कोरोना ने देश को ही नहीं बल्कि पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले लिया है। कोरोना के बढ़ते प्रसार को देखते हुए सरकार द्वारा कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन का निर्माण कार्य किया जा रहा है। कोरोना के आकड़े प्रतिदिन बढ़ते ही जा रहे हैं। जिसके चलते राज्य ओर केंद्र सरकार वैक्सीन के टिकाकरण को लेकर तैयारियों में जुटी है। जिसके चलते वैक्सीन की पहली डोज किसे दी जाने वाली हैं। सरकार द्वारा उनकी लिस्ट तैयार की जा रही है। इसी बीच दिल्ली सरकार ने फर्स्ट फेज में वैक्सीन दिये जाने वाले फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में अब जल बोर्ड और बिजली विभाग के कर्मचारियों को भी शामिल करने का आदेश जारी किया है। सत्येंद्र जैन ने कहा कि जब लॉकडाउन किया गया था तब सारे बिजली कर्मचारी ड्यूटी पर थे और सारे ही जल बोर्ड के कर्मचारी भी ड्यूटी पर थे इसलिये उनको फ्रंटलाइन में रखा गया है।

कल पहली बार 2% से कम 1.9% पॉजिटिविटी रही-

बता दें कि राजधानी दिल्ली में कोरोना के आंकड़े रोज़ाना बेहतर हो रहे हैं। इसके साथ ही दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि कल दिल्ली सरकार ने आदेश दिए हैं कि जल बोर्ड के कर्मचारी जो पानी और सीवरेज के हैं और जो इलेक्ट्रिसिटी के कर्मचारी हैं उनको भी फ्रंटलाइन वर्कर की लिस्ट में रखा जाये और फर्स्ट फेज की वैक्सीनेशन में वैक्सीन दी जाये। इन लोगों को फ्रंटलाइन वर्कर्स का दर्जा देने की वजह बताते हुए सत्येंद्र जैन ने कहा कि जब लॉकडाउन किया गया था तब सारे बिजली कर्मचारी ड्यूटी पर थे और सारे ही जल बोर्ड के कर्मचारी भी ड्यूटी पर थे इसलिये उनको फ्रंटलाइन में रखा गया है। पुलिस और सिविल डिफेंस को पहले से ही रखा गया है उसी तरह से इनको भी फ्रंटलाइन वर्कर्स की श्रेणी में रखा जायेगा। दिल्ली में कोरोना के ताज़ा आंकड़ो पर सत्येंद्र जैन ने कहा कि कल 1617 नये केस आये हैं ये बड़े संतोष की बात है कि दिल्ली से कोरोना का प्रकोप कम होता जा रहा है। कल पहली बार 2% से कम 1.9% पॉजिटिविटी रही है, मई के बाद कभी इतनी कम कभी नहीं गई है और ये शायद अब तक की सबसे कम पॉजिटिविटी रही है।

पॉजिटिविटी 8% से कम होनी चाहिये- WHO

वहीं WHO का कहना है कि पॉजिटिविटी 8% से कम होनी चाहिये, टेस्ट की संख्या इतने तक लेकर जाओ और ऑप्टिमम 5% है। अगर टेस्ट इतने हो रहे हैं कि 5% पॉजिटिविटी आ रही है, हमारी 2% पॉजिटिविटी है तो अभी इंतज़ार करते है कि ये कब तक रहता है। पिछले 5 दिन से पॉजिटिविटी 3% से कम है, पिछले 15 दिन से पॉजिटिविटी 5% से कम है तो इसका मतलब निश्चित तौर पर डाउन ट्रेंड है। हालांकि कोरोना की तीसरी वेव के खत्म होने पर सत्येंद्र जैन ने कहा कि ये नहीं कह सकते कि तीसरी वेव खत्म हो गई है क्योंकि केस तो अभी भी आ रहे हैं, 2% ही सही। कोरोना तो अब बाकी बहुत सारी बीमारियों की तरह चलेगा लेकिन ये कह सकते हैं कि उसका जो बहुत बड़ा प्रकोप था वो थोड़ा कम लगता है।

 

Related posts

किसान आंदोलनः मोदी सरकार पर हमलावर हुआ विपक्ष, जयंत चौधरी से राहुल गांधी तक ने साधा निशाना

Aman Sharma

सावन का तीसरा सोमवार कल, ऐसे करें भोलेनाथ की पूजा, पूरी होगी मनोकामनाएं

Saurabh

मेरठ- प्रदेश में सपा सरकार को उखाड़ फेंकना होगा- पीएम मोदी

piyush shukla