October 20, 2021 10:49 pm
featured यूपी

वैज्ञानिकों का बड़ा खुलासा, शरीर के अलावा मस्तिष्क पर भी असर डालता है कोरोना

वैज्ञानिकों का बड़ा खुलासा, शरीर के अलावा मस्तिष्क पर भी असर डालता है कोरोना

लखनऊः कोरोना संक्रमण के रोकथाम के लिए भारत सरकार द्वारा पूरे देश में तेजी के साथ टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। कोरोना किए हुए शिकार व कोरोना से ठीक हो चुके लोगों में अब तक कई तरह के लक्षण देखे गए। कोरोना की पहली लहर के दौरान सिरदर्द व बुखार जैसे लक्षण लोगों में दिखे थे, तो वहीं दूसरी लहर ने अपना असर फेफड़ों पर दिखाया जिससे लोगों को सांस लेने में दिक्कतें हुई।

दिमाग में होती है सूजन

इसी बीच एक अध्ययन मे यह पता चला कि यह संक्रमण शरीर के अन्य हिस्सों के साथ मस्तिष्क पर भी अपना प्रभाव डाल रहा है और इससे व्यक्ति के दिमाग में सूजन और न्यूरोडीजेनेरेशन के लक्षण पाए जा रहे हैं।

इन रोगों के दिखते हैं लक्षण

स्टैनफोर्ड स्कूल ऑफ मेडिसिन, यूएस और जर्मनी में सारलैंड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन के जरिए यह पता लगाया कि कोरोना संक्रमण से मरने वाले ज्यादातर व्यक्तियों के दिमाग में सूजन और न्यूरोडीजेनेरेशन के लक्षण पाए हैं, जो अल्जाइमर और पार्किसंस रोग जैसी स्थितियों से मरने वाले लोगों में देखे गए हैं।

अध्ययन से यह पता चला कि ये शिकायतें कोरोना संक्रमण के गंभीर मामलों के साथ बढ़ती हैं। यह SARS&CoV&2 के संक्रमण के बाद उत्पन्न होता है, जो वायरस कोविड−19 का कारण बनता है।

भूलने की बीमारी का खतरा

स्टैनफोर्ड के प्रोफेसर टोनी वाइस कोरे बताते हैं कि कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल में भर्ती लगभग एक−तिहाई व्यक्तियों में फर्जी सोच, भूलने की बीमारी, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई जैसे लक्षण देखे गए। वाइस−कोरे ने कहा, “गंभीर कोविड −19 से मरने वाले रोगियों के दिमाग में सूजन के गहरे मॉलिक्यूलर मार्कर दिखाई दिए। हालांकि, वाइस−कोरे के समूह और अन्य लोगों द्वारा किए गए पिछले काम से पता चला है कि मस्तिष्क के बाहर रक्तजनित कारक ब्लड ब्रेन बैरियर के जरिए संकेत देकर मस्तिष्क के अंदर भड़काऊ प्रतिक्रियाओं को बढ़ा सकता है।

मस्तिष्क में न्यूरोइन्फ्लेमेशन को बंद कर सकता है

वाइस−कोर के अनुसार, वायरल संक्रमण पूरे शरीर में इन्फ्लेमेशन प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर करता प्रतीत होता है जो  ब्रेन बैरियर में भी इन्फ्लेटरी सिगनिंगल का कारण बन सकता है, जो बदले में मस्तिष्क में न्यूरोइन्फ्लेमेशन को बंद कर सकता है।

Related posts

अलविदा 2017: इस साल की ये घटना पाकिस्तान में इतिहास के रूप में होगी दर्ज

Breaking News

विधि-विधान के साथ खुले बाबा केदारनाथ के कपाट, चारधाम यात्रा का हुआ आगाज़

piyush shukla

‘टेररिस्तान’ का दोस्त बना दुश्मन, कश्मीर की लड़ाई खुद लड़े पाकिस्तान

Pradeep sharma