कोरोना वारियर रहे कर्मचारी को भी नहीं मिल पा रहा समुचित इलाज, ये है मामला
सांकेतिक पिक्चर

लखनऊ: संयुक्त राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कर्मचारी संघ उत्तर प्रदेश ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को  पत्र लिखा है।

पत्र के माध्यम से कर्मचारी संघ ने एक गंभीर मामले को उठाते हुए सीएम योगी से कहा है कि कोविड-19 के मरीजों की सेवा कर रहे कर्मचारियों को बीमार होने पर उचित इलाज नहीं मिल रहा है।

कोरोना वारियर रहे कर्मचारी को भी नहीं मिल पा रहा समुचित इलाज, ये है मामला

कोविड पीड़ित कर्मचारी का किया जिक्र

पत्र में कोविड वारियर एक कर्मचारी की बीमारी का जिक्र किया गया है। इसके साथ ही पत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ साथ चिकित्सा शिक्षा मंत्री, मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव स्वास्थय से भी आगे आने की अपील की है। पत्र में बीमार कर्मचारी रीतेश राज मिश्रा के समुचित इलाज के लिए प्रार्थना की गई है।

लैब टेक्नीशियन को नहीं मिल रहा समुचित इलाज

संयुक्त राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कर्मचारी संघ के उपाध्यक्ष योगेश उपाध्याय ने पत्र में कहा कि रीतेश राज मिश्रा जो कि एक लैब टेक्नीशियन हैं, इनको 14 फरवरी 2020 को कोविड मरीजों के लगातार सैंपल लेने और कोविड मरीजों के लिए महान काम करने के लिए यूपी के माननीय स्वास्थ्य मंत्री, यूनिसेफ, स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन और बीजेपी के क्षेत्रीय कार्यालय लखनऊ के द्वारा प्रशंसा की गई थी।

कोविड मरीजों की सेवा करते करते हो गए संक्रमित

पत्र में कहा गया है कि कोविड-19 के मरीजों के लिए काम करते-करते ये खुद ही कोरोना संक्रमित हो गए और 10 अप्रैल 2021 को इनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद इन्होंने खुद को होम आइसोलेट कर लिया था और घर पर ही रहकर स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर रहे थे।

16 अप्रैल को अचानक बिगड़ी तबीयत

लेकिन 16 अप्रैल को अचानक इनकी तबीयत बिगड़ गई और इन्हें लखनऊ के लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन रीतेश जी की तबीयत लगातार बिगड़ रही है और इन्हें ग्रेड-3 पीजीआई या मेडिकल कॉलेज में इलाज की जरूरत है।

इसके लिए इनके परिवार ने कोविड कंट्रोल रूप पर फोन पर किए गए अनुरोध पर भी इनकी मांगों पर गौर नहीं किया जा रहा है। इस बातचीत के दो दिन हो गए हैं लेकिन अभी तक कोविड कंट्रोल सेंटर की तरफ से कोई जवाब नहीं आया है।

केजीएमयू और पीजीआई में इलाज की अपील

कर्मचारी संघ के उपाध्यक्ष योगेश उपाध्याय ने पत्र में कहा कि अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य से अनुरोध है कि कोरान वारियर योगेश राज मिश्रा के शीघ्र स्वस्थ होने के लिए इन्हें केजीएमयू या पीजीआई में अतिशीघ्र भर्ती किया जाए। जिससे इनकी हालत में तेजी से सुधार हो सके।

कर्मचारी संघ उपाध्यक्ष ने कहा कि अगर रीतेश राज मिश्रा को उचित इलाज नहीं मिलेगा तो इससे कोरोना को लेकर काम कर रहे लोगों में सही चिकित्सा सुविधा न मिल पाने का डर पैदा हो जाएगा इससे वो कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सरकार का साथ नहीं दे पाएंगे। अत इस मांग पर अतिशीघ्र विचार किया जाए।

नगर निगम ने चलाया अभियान, रिकॉर्डतोड़ किया सैनिटाइजेशन

Previous article

कोविड मरीज ने सीएम योगी से हाथ जोड़कर की अपील, प्लीज परिवार को बचा लीजिए!

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.