Corona Impact: भले दो-तीन महीने कमाई ना हो, लेकिन तीसरी लहर नहीं आनी चाहिए

लखनऊ: कोरोना लोगों के लिए एक बुरे सपने जैसा हो गया है। पहली लहर और दूसरी लहर के बाद अब आम आदमी से लेकर व्यापारी वर्ग सभी डरे सहमे हुए हैं। तीसरी लहर की आशंका के बीच Bharatkhabar.com के संवाददाता आदित्य मिश्र ने होटल व्यापार से जुड़े श्याम क्रिसनानी से विशेष बातचीत की।

होटल इंडस्ट्री में कई फिक्स चार्ज

श्याम क्रिसनानी ने बातचीत के दौरान बताया कि होटल इंडस्ट्री एक ऐसा व्यावसायिक क्षेत्र है, जहां कई फिक्स चार्ज देखने को मिलते हैं। जिसमें कर्मचारियों की सैलरी, हाउस टैक्स, वाटर टैक्स, बिजली बिल जैसे खर्चे हमेशा बने रहते हैं। इस दौरान अगर व्यापार नहीं भी होता, तब भी इनका भुगतान करना होता है।

WhatsApp Image 2021 07 20 at 3.25.31 PM भले दो-तीन महीने कमाई ना हो, लेकिन तीसरी लहर नहीं आनी चाहिए- Hotel Industry

श्याम क्रिसनानी, ज्वाइंट सेक्रेट्री यूपी होटल रेस्टोरेंट

व्यापार के असर से जुड़े सवाल पर उन्होंने कहा कि महामारी का बहुत खतरनाक माहौल देखने को मिला। होटल व्यापार भी इससे प्रभावित नहीं रहा। पहली लहर के बाद 20 अप्रैल से 31 मई तक स्थिति सामान्य होने लगी थी लेकिन फिर लॉकडाउन लग गया। मौजूदा हाल का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 1 जुलाई से लेकर 16 जुलाई तक व्यापार सही रहा। इस दौरान कई तरह के वैवाहिक कार्यक्रम और अन्य आयोजन हो रहे थे, लेकिन अब इनका वक्त खत्म हो गया है। 18 नवंबर से फिर आयोजन शुरू होंगे, इस बीच में आने वाले कुछ महीने काम ढीला रहेगा।

डर के बीच हो रहा काम

श्याम क्रिसनानी ने बातचीत के दौरान बताया कि अभी भी लोग डरे हुए हैं। इसका असर साफ देखने को मिल रहा है। सामान्य दिनों में जहां होटल में बर्थडे पार्टी, कंपनी के डिनर, कॉन्फ्रेंस और मीटिंग होती रहती थी। यह किसी भी सीजन में होने वाले आयोजन हैं, लेकिन अब लोग इन छोटी-छोटी गतिविधियों से भी बचते हुए दिखाई दे रहे हैं। इसीलिए होटल इंडस्ट्री और प्रभावित हुई है। इन सबके बीच उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस की तीसरी लहर नहीं आनी चाहिए, कुछ दिन हम लोग कमाई नहीं करेंगे तब भी चल जाएगा लेकिन तीसरी लहर से बचने के लिए सभी इंतजाम जरूर करने होंगे।

सरकार की तरफ से कुछ उम्मीद

सरकारी मदद पर उन्होंने कहा कि अभी तक किसी तरह की कोई सहायता नहीं मिली है, लेकिन होटल इंडस्ट्री से जुड़े व्यापारियों की मांग है कि इससे जुड़े फिक्स चार्ज, लोन, किस्त और अलग-अलग टैक्स में थोड़ी राहत दी जानी चाहिए। श्याम जी ने कहा कि सरकार को अपने खजाने को खाली करने की जरूरत नहीं है लेकिन कोई ऐसा रास्ता निकालें, जिससे कि सब का भला हो जाए। भविष्य की संभावनाओं पर उन्होंने कहा कि अगर तीसरी लहर नहीं आती है तो स्थिति जल्द ही बेहतर हो जाएगी।

प्रदेशभर में वैक्सीनेशन अभियान चलाएगी भाजपा

Previous article

लखनऊ: मृत चिकित्सक को मिली तैनाती, बनाया गया आजमगढ़ का CMS

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured