January 17, 2022 10:28 pm
featured दुनिया हेल्थ

दुनिया में फिर से कोरोना की दशहत, ब्रिटेन के बाद इन देशों में मिले नए वेरिएंट ‘Omicron’ के केस

कोरोना से मौतों के मामले में अमेरिका टॉप पर, जानें भारत की स्थिति

दक्षिण अफ्रीका से सामने आए कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन से पूरी दुनिया चिंता में है। यह वेरिएंट दक्षिण अफ्रीका से बाहर निकलकर अन्य देशों में भी पहुंच गया है। अब दूसरे देशों में भी इसके मामले सामने आने लगे हैं।

ब्रिटेन के साथ-साथ कई यूरोपीय देशों में ओमिक्रोन के केस मिले हैं। ब्रिटेन में शनिवार को दो मरीज कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन से संक्रमित मिले। इसके साथ ही अब यूरोपीय देशों में यह ज्यादा संक्रामक नजर आ रहा है।

ब्रिटेन सरकार ने शनिवार को कहा कि देश में कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमिक्रोन के दो मामलों की पुष्टि हुई है। यूके ने शनिवार को दो मामले मिलने के बाद मास्क पहनने और अंतरराष्ट्रीय आगमन के के दौरान परीक्षण को लेकर अपने नियमों को और कड़ा कर दिया। इसके साथ ही वायरस के नए स्वरूप के मामलों के मद्देनजर अफ्रीका के चार और देशों को ब्रिटेन की यात्रा संबंधी ‘रेड लिस्ट’ में शामिल किया गया है। इनमें अंगोला, मोजाम्बिक, मलावी और जाम्बिया शामिल हैं।

जर्मनी और इटली में भी मिले केस
वहीं, ब्रिटेन अलावा जर्मनी और इटली में भी शनिवार को कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन नए मामलों की पुष्टि की गई। इटली की समाचार एजेंसी लाप्रेसे के अनुसार, मोजाम्बिक की यात्रा करने वाले एक इटली के नागरिक में ओमिक्रोन वेरिएंट पाया गया है, उसका टेस्ट पॉजिटिव आया है. वह यात्रा करके 11 नवंबर को रोम लौटा था।

वहीं, जर्मनी में दो लोगों में ओमिक्रोन वेरिएंट पाया गया है। दोनों मरीज 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका से जर्मनी पहुंचे थे. दोनों का टेस्ट ओमिक्रोन वेरिएंट के लिए पॉजिटिव पाया गया है।

इससे पहले कई देशों में मिले ओमिक्रोन के मरीज
संभावित रूप से अधिक संक्रामक बी.1.1.529 स्वरूप के बारे में पहली बार 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका द्वारा विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) को सूचित किया गया था और इसके बाद बोत्सवाना, बेल्जियम, हांगकांग और इजराइल में भी इसकी पहचान की गई है।
डब्ल्यूएचओ ने शुक्रवार को इसे ‘‘चिंताजनक’’ स्वरूप बताते हुए ओमीक्रोन नाम दिया। ‘‘चिंताजनक स्वरूप’’ डब्ल्यूएचओ की कोरोना वायरस के ज्यादा खतरनाक स्वरूपों की शीर्ष श्रेणी है।

Related posts

मलमास यानी अधिकमास में बन रहा ये शुभ योग, करें ये जरूरी काम

Trinath Mishra

एमसीडी चुनाव : धीमी है रफ्तार, 3 बजे तक 30.63 फीसदी मतदान

shipra saxena

कोलकाता के एसएसकेएम सरकारी अस्पताल में लगी आग

Rahul srivastava