January 26, 2022 3:00 pm
Breaking News featured देश

राफेल डील को लेकर कांग्रेस ने की मोदी सरकार पर सवालों की बौछार

RandeepSinghSurjewala 875 राफेल डील को लेकर कांग्रेस ने की मोदी सरकार पर सवालों की बौछार

नई दिल्ली। फ्रांस से आयात किए गए राफेल फाइटर लड़ाकू जेट की डील का जिन्न एक बार फिर बाहर आ गया है। कांग्रेस ने राफेल सौदे को लेकर केंद्र की बीजेपी सरकार पर सवाल उठाए हैं। दरअसल राफेल सौधे को लेकर रक्षा मंत्री द्वारा जवाब न दिए जाने को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर जमकर हमला बोला है। कांग्रेस ने सरकार पर आरोप लगाया है कि जो डील कांग्रेस के शासन काल में सस्ते में हुई थी उसे मोदी सरकार ने तीन गुना ज्यादा रकम देकर खरीदा है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने राफेल डील को लेकर सरकार पर सवालों की बौछार करते हुए कहा कि क्या मोदी सरकार बताएगी कि 36 राफेल लड़ाकू जहाजों की खरीद कीमत कितनी है?

सुरजेवाला ने सरकार से पूछा कि प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री लड़ाकू जहाजों की खरीद कीमत बताने में क्यों संकोच कर रहे हैं? उन्होंने पूछा कि क्या ये सही है कि डसॉल्ट ने नवंबर 2017 में 12 राफेल लड़ाकू जहाज की कीमत 526.1 करोड़ रुपये आकी है, जबकि सरकार ने इसे 157.08 करोड़ में खरीदा है। अगर ये तर्क सही है तो राजस्व को हुई हानि का कौन जिम्मेदार है? क्या ये सही है कि डसॉल्ट ने नवंबर 2017 में 12 राफेल लड़ाकू जहाज एक अन्य देश कतर को प्रति जहाज 694.80 करोड़ में बेचे हैं? क्या कारण है कि कतर को बेचे जाने वाले राफेल लड़ाकू जहाज की कीमत भारत को बेचे जाने वाले लड़ाकू जहाज से 100% कम है?RandeepSinghSurjewala 875 राफेल डील को लेकर कांग्रेस ने की मोदी सरकार पर सवालों की बौछार

प्रधानमंत्री ने फ्रांस में निर्मित 36 रफैल लड़ाकू जहाजों को खरीदने का एकछत्र निर्णय कैसे लिया, जबकि डिफेंस प्राक्योरमेंट प्रोसीज़र के अनुरूप यह संभव नहीं?क्या यह सही है कि 36 राफेल विमानों की खरीद करने की घोषणा के दिन यानि 10 अप्रैल, 2015 को न तो ‘कैबिनेट कमिटी ऑन सिक्योरिटी’ की मंजूरी ली गई थी और न ही अनिवार्य ‘डिफेंस प्रोक्योरमेंट प्रोसीज़र, 2013’ की अनुपालना की गई थी? जब भारत सरकार की ‘कॉन्ट्रैक्ट नेगोसिएशन कमेटी’ व ‘प्राईस नेगोसिएशन कमेटी’ द्वारा इस खरीद की अनुमति नहीं थी, तो प्रधानमंत्री 10 अप्रैल, 2015 को ऐसा एकछत्र निर्णय कैसे ले सकते थे?

प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी ने 10 अप्रैल, 2015 को 36 राफेल विमान खरीदने का निर्णय लेने से पहले नियमानुसार ‘कैबिनेट कमिटी ऑन सिक्योरिटी’ से अनुमति क्यों नहीं ली?8 अप्रैल, 2015 को विदेश सचिव ने एक पत्रकार वार्ता में कहा कि प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी की फ्रांस यात्रा के दौरान राफेल जहाज खरीदने बारे कोई प्रस्ताव नहीं है?क्या प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी देश को बताएंगे कि 8 अप्रैल, 2015 से 10 अप्रैल, 2015 के बीच 48 घंटों में ऐसा क्या हो गया कि उन्होंने आनन-फानन में फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू जहाज खरीदने की घोषणा कर डाली?

Related posts

लॉकडाउन के बाद पहले दिन भगवान वेंकटेश्वर के प्रसिद्ध मंदिर में चढ़ा चैकाने वाला चढ़ावा

Rani Naqvi

UP: बेसिक शिक्षा मंत्री के भाई के EWS सर्टिफिकेट पर तहसीलदार ने दी रिपोर्ट, जानिए क्‍या कहा

Shailendra Singh

दैनिक राशिफल: जानिए सितारों के अनुसार कैसे करें अपने दिन की शुरुआत

Aditya Mishra