‘मुसलमानों के खून के धब्बों’ वाले बयान पर कांग्रेस ने झाड़ा पल्ला, खुर्शीद अब भी बयान पर कायम

पूर्व कानून मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने अपने बयान से पार्टी की फजीहत कर दी है लेकिन पार्टी ने उनके इस बयान से पल्ला झाड़ते हुए साफ कर दिया है कि वह इस बयान में शामिल नहीं है। दरअसल सलमान खुर्शीद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वार्षिकोत्सव में शरीक होने गए थे। जहां उन्होंने छात्रों के सवालों का जवाब देते हुए कहा था कि- कांग्रेस के दामन पर मुस्लिमों के खून के धब्बे हैं। ये आप पर ना लगें इसके लिए आपको हमसे सीख लेना चाहिए।

 

कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद (Source: ANI Twitter)

 

उनके इस बयान के बाद कांग्रेस ने अपनी सफाई देना शुरू कर दिया है। कांग्रेस प्रवक्ता पीएल पुनिया ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सलमान खुर्शीद के बयान को उनका निजी बयान बताते हुए कहा, ‘सलमान खुर्शीद के बयान से कांग्रेस पार्टी असहमत है। ये बात सभी को मालूम होनी चाहिए कि देश के आजाद होने से पहले और बाद में भी कांग्रेस ही सिर्फ ऐसी पार्टी रही है, जिसने एक समानतावादी समाज बनाने के लिए काफी काम किया है। कांग्रेस पार्टी समाज के सभी वर्गों और लोगों को साथ लेकर चलती आई है।’

 

वहीं सलमान खर्शीद अभी भी अपने बयान पर कायम हैं। बुधवार को कांग्रेस नेता ने न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में कहा, ‘मैं अपने बयान पर कायम हूं। मैंने एक इंसान के तौर पर यह बयान दिया है।’

 

 

बता दें कि खुर्शीद एएमयू के वार्षिक महोत्सव में हिस्सा लेने आए थे। जहां एक पूर्व छात्र ने उनसे पूछा, ‘1948 में एएमयू एक्ट में पहला संशोधन हुआ था, उसके बाद 1950 में राष्ट्रपति का आदेश, जिससे मुस्लिमों से आरक्षण का छीना गया और फिर हाशिमपुरा, मलियाना और मुज्जफरपुर जैसे दंगों की लिस्ट है। इसके अलावा बाबरी मस्जिद की शहादत ये सब कांग्रेस के राज में हुआ। मुसलमानों की मौत के धब्बे कांग्रेस के दामन पर हैं इन्हें आप कैसे धोएंगे?’

 

इस पर सलमान ने जवाब देते हुए कहा कि कांग्रेस के दामन पर मुस्लिमों के खून के धब्बे हैं। खुर्शीद यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि चूंकि मैं कांग्रेस का नेता हूं इसलिए मुस्लिमों के खून के दाग मेरे दामन में भी हैं, लेकिन ये आप पर ना लगें इसलिए आप इन घटनाओं से सीखें।

 

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से पार्टी के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद पार्टी से इतर बयान बाजी करते नजर आ रहे हैं। पिछले दिनों जहां पार्टी ने पूरे जोरशोर के साथ उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के समक्ष चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिालाफ महाभियोग नोटिस दिया था। वहीं सलमान खुद को पार्टी के इस निर्णय में शामिल नहीं होने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट के नजरिए या फैसले से असहमत होने पर महाभियोग नहीं लाया जा सकता है। महाभियोग को गंभीर मुद्दा बताते हुए उन्होंने खुद को इससे अलग कर लिया था।