sachin pilot ashok gehot गहलोत को मुसीबत में डालने वाले सचिन पायलट की एक माफी से कैसे मान गई कांग्रेस?

राजस्थान में कांग्रेस के लिए सियासी मुसीबत खड़ी करने वाले उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की कांग्रेस में दोबारा एंट्री हो गई है। कल राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से मुकाकात के बाद सचिन पायलट के सारे तेवर ही बदल गये और वो कांग्रेस में वापस आ गये। सचिन की वापसी ने बीजेपी के अरमानों पर पानी फेर दिया है। कांग्रेस में वापसी के बादं सचिन पायलट ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बड़ा बयान दिया।

सचिन पायलट गहलोत को मुसीबत में डालने वाले सचिन पायलट की एक माफी से कैसे मान गई कांग्रेस?
सचिन पायलट ने कहा कि मुद्दों पर मतभेद होता है और होना भी चाहिए। मैं सबसे बात करता हूं। मैंने लोगों से बहुत से वादे किए थे, उसे पूरा करना है। हालांकि भविष्य में क्या करेंगे इसे लेकर सचिन पायलट ने अपने पत्ते नहीं खोले।आगे की रणनीति क्या होगी? सचिन पायलट ने कहा कि भविष्य में क्या होगा मुझे पता नहीं है. कांग्रेस के मेरे बहुत से साथियों ने बहुत सी बातें कही या बोली गई होंगी, मैं उस पर टिप्पणी नहीं करना चाहता। इसका कोई मतलब नहीं है. रात गई सो बात गई। मैं इन सब बातों का जवाब दूं। यह शोभा नहीं देता है. सब मेरे साथी हैं. अगर किसी ने मुझे भला बुरा कहा है तो ये उनकी सोच होगी।

इसके साथ ही राजस्थान की सियासी खींचतान और बीजेपी की भूमिका के सवाल पर पायलट ने कहा कि जो विपक्षी पार्टी है वो मौके का फायदा उठाए, ऐसा सोचना गलत नहीं है। लेकिन हम शुरू से बोल रहे हैं कि हम पार्टी के अंदर रहकर मामले को उठाएंगे। हम कांग्रेसी हैं।
विधायकों ने भी कहा वो अपनी बात रखना चाहते हैं, लेकिन इस बीच विपक्षी पार्टी ने ऐसे काम किए होंगे कि इसका फायदा कैसे लिया जाए?
हम सभी लोग कांग्रेस के 20 साल से कार्यकर्ता हैं। हमें जब भी कोई टास्क मिला, हमने निभाया है। हमारे कुछ इशू थे, जो हमने उठाए। जो हमारा अधिकार है। जहां तक घर वापसी की बात है, अगर किसी ने कोई सीमा लांघी हो या पार्टी छोड़ने की बात कही हो तो इसका सवाल ही नहीं उठता।

निकम्मे नाकारा वाले गहलोत के बयान पर पायलट ने कहा कि राजनीति में मुद्दों को लेकर काम करते हैं। जनता के सामने मुद्दे लेकर जाते हैं। जिस पर लोग वोट करते हैं। मैरा मानना है की राजनीति में व्यक्तिगत कटुता की भावना नहीं होनी चाहिए। जिन शब्दों का प्रयोग हम करते हैं उन्हें सोच-समझ कर करना चाहिए। मेरा जो कठोर विरोधी होगा। जिसने मेरे खिलाफ चुनाव लड़े हैं। मुझे बहुत कुछ कहा है। भाषा की एक मान मर्यादा बना कर रखनी चाहिए।

https://www.bharatkhabar.com/sachin-pilot-returns-to-congress-know-how-it-became/
इसके साथ ही पायलट ने बहुत ही सोच समझकर हर सवाल का जवाब दिया। पायलट की वापसी पर राजस्थान के सीएम अशोक गहलोक की अभी तक कोई खास प्रतिक्रिया नहीं आयी है।

कश्मीर में आईएएस से राजनेता बने शाह फैसल ने छोड़ी राजनीति

Previous article

बिग ब्रेकिंग- मशूहर शायर डॉ. राहत इंदौरी का निधन..

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured