जानिए मोदी के संसदीय क्षेत्र में कैसा है पंचायत चुनाव का हाल

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव की तैयारियां लगभग पूरी हो गई हैं। अलग-अलग जिले का आरक्षण भी निर्धारित हो गया है। प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी की अंतिम आरक्षण सूची जारी हो गई है।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश मेट्रो में बंपर भर्ती, 10 मार्च से आवेदन शुरु

ऐसा रहेगा आरक्षण का हिसाब

वाराणसी में कुल 694 ग्राम प्रधान, 8 ब्लॉक प्रमुख और 40 जिला पंचायत सदस्य के पद की आरक्षण सूची जारी हुई है। इसके अनुसार प्रधान पद के 451, ब्लाक प्रमुख के पांच और जिला पंचायत सदस्य के कुल 24 पद आरक्षित किए जाने हैं।

पंचायत चुनाव का रास्ता साफ, सरकार ने आरक्षण नियमावली पर लगाई मुहर

इस सूची के बारे में आधिकारिक ऐलान भी हो गया है। इसके साथ ही उसको विकास भवन और ब्लॉक परिसर में आम लोगों के लिए चिपका दिया गया है।इस मामले से जुड़ी किसी भी प्रकार की आपत्ति को 4 मार्च से 8 मार्च के बीच सुना जायेगा। 12 मार्च के बाद सूची को फाइनल कर दिया जाएगा।

प्रधान पद के लिए इस तरह आरक्षण का वर्गीकरण

जिले में 694 सीटें ग्राम प्रधानों की हैं। इसमें से 243 सीटों को अनारक्षित रखा गया है। शेष बची सीटों पर अलग-अलग वर्गों के लिए आरक्षण निर्धारित किया गया है। जिसमें एससी, एसटी, ओबीसी का महिला और पुरुष वर्ग में सीटों का बंटवारा हुआ है।

एसटी महिलाओं के लिए 8, एससी महिलाओं के लिए 43, ओबीसी महिलाओं के लिए 66 और सामान्य वर्ग के लिए 116 सीटें महिलाओं में आरक्षित हैं। वहीं पुरुष वर्ग में एसटी के लिए 11 सीटें, एससी के लिए 81, ओबीसी के लिए 126 और सामान्य वर्ग के लिए कुल 243 सीटों का निर्धारण हुआ है।

इस बार आरक्षण ने बदली किस्मत

सपा सरकार में जो आरक्षण की स्थिति थी, उसे पूरी तरह से पलट दिया गया है। इस बार नई आरक्षण नियमावली जारी की गई, जिसके बाद पंचायत चुनाव में उम्मीद लगाए बैठे कई उम्मीदवार  निराश भी हो गए। वहीं कुछ लोगों को इस बार बड़ा अवसर मिल रहा है।

UP में कौन जीतेगा 350 सीट? पढ़िए मुख्‍यमंत्री योगी और अखिलेश यादव का दावा

Previous article

बंगाल चुनाव 2021: कांग्रेस-लेफ्ट के बीच गठबंधन मुकर्रर, जानिए कौन कितनी सीटों पर लड़ेगा चुनाव

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured