केंद्रीय विद्यालय भारतीय सैन्य अकादमी में रंगारंग प्रस्तुतियों ने किया मंत्र मुग्ध

देहरादून। केंद्रीय विद्यालय भारतीय सैन्य अकादमी में 69वां गणतंत्र दिवस खूब धूमधाम से मनाया गया। कार्यकम में स्कूल के छात्र-छात्राओं ने रंगारंग प्रस्तुतियों के जरिए सभी का मन मोहा। कार्यक्रम में परीक्षाओं और अन्य गतिविधियों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित भी किया गया। स्कूल परिसर में आयोजित हुए कार्यक्रम को भारतीय सैन्य अकादमी के ब्रिगेडियर राजवीर सिंह व विशिष्ट अतिथि मेजर निर्मलजीत सिंह ने किया। सर्वप्रथम ध्वजारोहण तथा राष्ट्रगान द्वारा राष्ट्रध्वज को सलामी देते हुए देश के प्रति प्रेम एवं सम्मान प्रकट किया गया।

uttrakhand
uttrakhand

बता दें कि स्कूल के नौनिहालों ने स्वागत गान प्रस्तुत कर समस्त गणमान्य अतिथियों के स्वागत किया। कार्यक्रम में स्कूल की प्राचार्य डॉ चारू शर्मा ने राष्ट्रीय पर्व की महत्ता बताते हुए अपने संदेश में सभी को कर्त्तव्यनिष्ठा से अपना कार्य करने के लिए सदैव तत्पर रहने हेतु प्रेरित किया। इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आगाज हुआ। इस दौरान देशभक्ति से सराबोर करती हुई प्रस्तुतियां आकर्षण का केंद्र रही। कक्षा ग्यारहवीं के छात्र नमन ने देशभक्ति की भावना भरने वाली ओजस्वी कविता का ओजपूर्ण पाठ किया गया। समूहगान से सामूहिक एकता का संदेश दिया गया। भारत की गौरवशाली परम्परा एवं संस्कृति को प्रदर्शित करते हुए विद्यार्थियों ने योग मुद्राएं प्रस्तुत कर सभी को गर्व का अनुभव कराया। देश निरंतर प्रगति-पथ पर अग्रसर होते हुए विश्व में अपनी पहचान बना रहा है लेकिन फिर भी कुछ समस्याओं के निवारण की आवश्यकता है।

वहीं इसी भाव को प्रस्तुत करते हुए विद्यार्थियों द्वारा ‘बदलाव की लहर’ नामक लघु नाटिका से उपस्थित अतिथियों एवं विद्यार्थियों के हृदय में परिवर्तन की लहर उत्पन्न कर दी। इस अवसर पर दसवीं व बारहवीं में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के समापन पर मुख्य अतिथि ने छात्रों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हमें अपने देश के नियमो एवं कानूनों का पालन करना चाहिए क्योंकि सरकार और देश हमसे है और हमारे लिए है। ऐसे में हमारा कर्त्तव्य है कि हम एकजुट होकर कर्मपथ पर बढ़ते रहें। कार्यक्रम का समापन मिष्ठान वितरण के साथ हुआ। इस मौके पर मुख्य अध्यापक सुधीर जैन, पियुष निगम सहित काफी संख्या में शिक्षक व छात्र-छात्राएं मौजूद रहे।