Team11 के साथ मीटिंग में सीएम योगी ने दिए निर्देश, ऑक्सीजन सप्लाई का हो ऑडिट

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश में एक मई से होने वाले टीकाकरण के लिए अभी से तैयार दिख रहे हैं। सीएम योगी ने टीम-11 से वर्चुअल संवाद में कहा कि प्रदेश में अब तक 97,83,416 लोगों को कोविड टीके की पहली डोज दी जा चुकी है, जबकि 20 लाख से अधिक लोगों को दोनों डोज लग चुकी है।

इस तरह टीके की 1,17,83,880 डोज एडमिनिस्टर की जा चुकी है। प्रदेश में वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता है। एक मई से शुरू हो रहे टीकाकरण के आगामी अभियान के संबंध में विधिवत पूरी तैयारी कर ली जाए।

संसाधनों का विस्तार जरूरी- सीएम योगी

सीएम योगी ने कहा कि संक्रमण की तेज दर को देखते हुए वर्तमान ससाधनों में न्यूनतम दोगुने का विस्तार जरूरी है। हर तरह की चुनौती के लिए हमें तैयार रहना होगा। स्वास्थ्य विभाग और चिकित्सा शिक्षा विभाग बेड बढ़ोतरी के लिए कार्ययोजना तैयार कर लागू करे।

स्वास्थ्य विभाग सभी जिलों में कम से कम दो-दो और सीएचसी को इस कार्य में जोड़ें। इसी तरह चिकित्सा शिक्षा विभाग नए मेडिकल कॉलेजों को डेडिकेटेड कोविड अस्पताल के रूप में तैयार कराए। इन अस्पतालों में ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, प्रशिक्षित मानव संसाधन की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए।

स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सलाह सुलभता से उपलब्ध हो

आमजन को स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सलाह सुलभता से उपलब्ध कराएं। खान-पान, इम्युनिटी बढ़ाने के तरीके, शरीर में ऑक्सीजन बढ़ाने की विधियां आदि के बारे में व्यापक तौर पर जागरूकता प्रसार किया जाए।

निजी अस्पतालों में कोविड मरीजों के उपचार के लिए तथा कोविड टेस्ट के लिए शासन स्तर पर दरें तय की गई हैं। मंडलायुक्त/जिलाधिकारी यह सुनिश्चित करें कि कहीं भी ओवरबिलिंग न हो। शासन ने कोविड मरीजों के लिए डिस्चार्ज पॉलिसी तय की है, उसे सभी जिलों में समान रूप से प्रभावी बनाया जाए।

मरीज को भर्ती कराने में न हो कोई परेशानी

एंटीजन टेस्ट के पॉजिटिव होने के बाद हॉस्पिटल में भर्ती करने के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट के पॉजिटिव होने की कोई आवश्यकता नहीं है। मरीज को जितना जल्दी इलाज मिलेगा, वह उतना ही जल्द स्वस्थ होगा।

सभी जिलों में इस व्यवस्था को प्रभावी ढंग से लागू कराया जाए। स्वास्थ्य विभाग तथा चिकित्सा शिक्षा विभाग यह सुनिश्चित कराए कि सभी सरकारी और निजी अस्पताल जिनकी क्षमता 100 से अधिक बेड की है, उनके पास स्वयं का ऑक्सीजन प्लांट हो।

यह कार्य प्रदेश में अभियान के रूप में चल रहा है। निजी क्षेत्र को भी प्रोत्साहित करें, सरकार सभी जरूरी सहयोग देगी। ऑक्सीजन प्लांट स्थापना की कार्यवाही तेज की जाए, इसकी हर दिन समीक्षा की जाए।

यूपी के 20 जिलों में हो रही वोटिंग, जाने कितने प्रतिशत हुआ मतदान

Previous article

सावधान! बिना मूल्य लिखे पल्स ऑक्सीमीटर बेचने पर होगा मुकदमा

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured