Breaking News featured उत्तराखंड देश भारत खबर विशेष

भगवान बद्री विशाल के दर्शन के बाद देश के आखिरी गांव पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ, आईटीबीपी के जवानों से की मुलाकात

91030bc2 8dc9 4369 bcc7 e139eca80585 भगवान बद्री विशाल के दर्शन के बाद देश के आखिरी गांव पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ, आईटीबीपी के जवानों से की मुलाकात

उत्तराखंड। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सबसे पहले बद्रीनाथ धाम पहुंचे। बद्रीनाथ धाम पहुंचकर सीएम योगी और सीएम रावत ने भगवान बद्री विशाल के दर्शन किए। जिसके बाद दर्शन के साथ ही पूजा अर्चना का दौर भी शुरू हो गया। सीएम योगी आदित्यनाथ आज 11 करोड़ की लागत से बनने वाले उत्तर प्रदेश पर्यटक आवास गृह का शिलान्यास भी करेंगे। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड दोनों राज्यों के मुख्यमंत्री उत्तराखंड के सबसे बड़े बॉर्डर का इलाका और देश के आखिरी गांव मोड़ा पहुंचे।

11 करोड़ 50 लाख की लागत से बने गेस्ट हाउस का होगा शिलान्यास—

बता दें कि उत्तराखंड के सबसे बड़े बॉर्डर का इलाका और देश के आखिरी गांव मोड़ा पहुंचे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां पर आईटीबीपी के जवानों से मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद जवानों और सीएम योगी आदित्यनाथ के मुख पर एक अलग ही खुशी झालक रही थी। बदरीनाथ धाम में देवदर्शनी और हेलीपैड के समीप यूपी टूरिज्म का पर्यटक आवास गृह बनेगा। 11 करोड़ 50 लाख की लागत से बनने वाला ये गेस्ट हाउस आधुनिक सुविधा से युक्त होगा। यहां पार्किंग सहित सभी सुविधाएं होंगी। साल 2018 में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने इसकी घोषणा की थी। यूपी टूरिज्म और तहसील जोशीमठ (चमोली) के अधिकारियों ने रविवार को शिलान्यास स्थल पर सभी तैयारियां भी पूरी कर ली हैं।

माड़ा गांव पहुंचे उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के सीएम—

इसके साथ ही उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी राज्य की उन्नति के लिए आए दिन नई-नई योजनाओं का शिलान्यास करते रहते हैं। साथ ही योगी आदित्यनाथ ने भी बेरोजगारी को खत्म करने के लिए कई तर​ह की योजनाएं चला रखी हैं। योगी आदित्यनाथ और त्रिवेंद्र सिंह रावत जी ने आईटीबीपी के जवानों से मुलाकात कर खुशी जाहिर की।

Related posts

पलायन रोकने के लिए सरकार ने तमाम योजनाएं शुरू कीं : अभय सिंह

Shailendra Singh

बरसाना धाम में आज होगी लड्डू होली की रौनक, जानिए क्या है इसका महत्व

Aditya Mishra

जब देव आनंद ने बनाई अपनी पार्टी, नेताओं की कुर्सियां लगीं घूमने, देखें फिर क्या हुआ?

bharatkhabar