सीएम योगी आदित्यनाथ ने की समीक्षा बैठक, कहा- तेजी से बढ़ रहा कोरोना, रहें सावधान

लखनऊ: राजधानी लखनऊ में शांतिपूर्ण आयोजनों और कोविड संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक समीक्षा बैठक की। इस समीक्षा बैठक में सीएम योगी ने जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए।

उन्होंने कहा कि विभिन्न राज्यों में कोविड संक्रमण की स्थिति बिगड़ रही है। ऐसे में हमें सतर्क-सावधान रहना होगा। ‘टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट’ के मंत्र को आत्मसात करते हुए कोविड प्रोटोकॉल का पूर्णतः अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। थोड़ी सी लापरवाही बहुत भारी पड़ सकती है।

‘उपद्रवियों से सख्ती से निपटे पुलिस’

औसतन 25-30 कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग जरूर की जाए। सीएम योगी ने कहा कि होली, शब-ए-बरात और पंचायत चुनावों को देखते हुए हमें विशेष सतर्कता की जरूरत है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस बल अलर्ट रहे और उपद्रवी तत्वों के साथ सख्ती से निपटा जाए। पर्व और त्योहारों पर कोई रोक नहीं है, लेकिन कोविड संक्रमण के दृष्टिगत लोगों को जागरूक किया जाए।

बिना स्थानीय प्रशासन की पूर्वानुमति के कोई भी जुलूस या सार्वजनिक समारोह आयोजित न किए जाएं।

‘बच्चों और बुजुर्गों पर रखी जाए नजर’

उन्होंने कहा कि इस दौरान होने वाले कार्यक्रमों में हाइरिस्क कैटेगरी जैसे 10 साल की उम्र से कम बच्चों और 60 साल से अधिक के बुजुर्गों को इन आयोजनों में शामिल होने से बचाया जाए।

उन्होंने कहा कि इन आयोजनों में ये सुनिश्चित किया जाए कि कोविड प्रोटोकॉल का पालन हो रहा है कि नहीं। उन्होंने कहा कि मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और सेनेटाइजर का नियम से पालन किया जाए।

‘एक अप्रैल से शुरू होगा टीकाकरण’

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि एक अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का कोविड टीकाकरण प्रारंभ हो रहा है। अधिकाधिक लोगों का टीकाकरण शीघ्रता से हो सके इसके लिए वैक्सीनेशन का कार्य अब हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर भी किया जाएगा।

भारत सरकार की गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए वैक्सीनेशन का कार्य पूरी प्रतिबद्धता के साथ किया जाए। वैक्सीन का वेस्टेज हर हाल में रोका जाए।

टीकाकरण के लिए लोगों को प्रोत्साहित व प्रेरित करने की आवश्यकता है। इस कार्य में जनप्रतिनिधियों का सहयोग भी अपेक्षित है।

‘बाहर से आने वालों को किया जाए क्वारंटीन’

सीएम ने समीक्षा बैठक में कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में वार्ड समितियों को सक्रिय किया जाए। उन्होंने कहा कि अब तक की लड़ाई में यह समितियां उपयोगी सिद्ध हुई हैं। इन क्षेत्र में दूसरे शहरों अथवा अन्य राज्यों से आने वाले व्यक्तियों की जांच की जाए।

संदिग्ध पाए जाने पर उनके क्वारन्टीन की व्यवस्था और आरटीपीसीआर जांच कराते हुए कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार कार्रवाई की जाए।

यूपी पंचायत चुनाव की नई आरक्षण आवंटन सूची जारी, ऐसे करें चेक

Previous article

मास्क चेकिंग अभियान से लगेगी कोरोना पर लगाम, प्रयागराज पुलिस ने बढ़ाई सख्ती

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured