सीएम रावत ने हरिद्वार में पतंजलि योगपीठ के नव निर्मित आचार्यकुलम भवन के लोकार्पण कार्यक्रम में शामिल हुए

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत बीते गुरूवार को हरिद्वार में पतंजलि योगपीठ के नव निर्मित आचार्यकुलम भवन के लोकार्पण कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह व स्वामी रामदेव ने संयुक्त रूप से आचार्यकुलम के नये परिसर का उद्घाटन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि स्वामी रामदेव द्वारा योग क्रांति के बाद शिक्षा क्रांति का जो संकल्प लिया है, वह भारतीय संस्कृति को सुदृढ़ करने का कार्य भी करेगा।

 

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि स्वामी रामदेव भारत के भविष्य का निर्माण कार्य कर रहे है

उन्होंने कहा कि 10 हजार छात्रों को शिक्षित करने की क्षमता रखने वाला आचार्यकुलम वैदिक और आधुनिक शिक्षा पद्धति के समन्वय का केन्द्र बनेगा। स्वामी रामदेव विश्व में योग के प्रसार के बाद अब वैदिक शिक्षा पद्धती को विश्व स्तर पर ले जाने की दिशा में अग्रसर हुए हैं। यह मानव निर्माण की प्रयोगशाला है, जहां भविष्य के भारत का निर्माण होगा। भारत को विश्व गुरू बनाने में हम सभी स्वामी रामदेव के इस अभियान में सहयोगी और साथी हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि स्वामी रामदेव भारत के भविष्य का निर्माण कार्य कर रहे है।

पतंजलि योग पीठ का आचार्यकुलम प्रभावी भूमिका निभायेगा

बता दें कि उन्होंने कहा कि भारत को विश्व गुरू बनाने में पतंजलि योग पीठ का आचार्यकुलम प्रभावी भूमिका निभायेगा। इसके लिये उन्होंने स्वामी रामदेव के प्रयासों की सराहना की। इस अवसर पर लोकसभा सांसद रमेश पोखरियाल ’निशंक’, राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी, कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक, विधायक आदेश चौहान, सुरेश राठौर, देशराज कर्णवाल, संजय गुप्ता, उत्तराखण्ड भाजपा प्रभारी श्याम जाजू, पतंजलि योगपीठ के आचार्य बालकृष्ण सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।