94f303ca cdb4 40fb ae89 496b016c7351 बिहार हिंसा का कहर-औरंगाबाद से होता हुआ पहुंचा नवादा

ऩई दिल्ली। बिहार में हिंसा की रुकने का नाम नहीं ले रही हैं एक के बाद एख हिंसा की आग बिहार के कई जिलों को अपनी चपेट में ले चुकी हैं और बिहार के कई जिलों में हिंसा का आग भड़क रही हैं। भागलपुर, औरंगाबाद और समस्तीपुर से हिंसा की आग का यें सफर अब नवादा जा पहुंचा हैं जहां हालाक शांत होने का नाम नहीं ले रही हैं। बता दे कि बिहार में रामनवमी के मौके पर शुरू हुई यें हिंसा ने अब एक बार फिर बिहार के प्रशासन पर सवाल खड़ा कर दिया हैं।

94f303ca cdb4 40fb ae89 496b016c7351 बिहार हिंसा का कहर-औरंगाबाद से होता हुआ पहुंचा नवादा

बता दे कि भागलपुर, औरंगाबाद और समस्तीपुर की हिंसा अब नावादा में पहुंच गई है। बिहार के नवादा में मूर्ति तोड़े जाने को लेकर दो समुदाय के बीच काफी झड़प हुई है। हिंसा में कई गाड़ियों के शीशे तोड़े गए हैं. हालात को काबू में लाने के लिए पुलिस ने अभी तक 10 राउंड की फायरिंग की है। नवादा केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह का संसदीय क्षेत्र है. बताया जा रहा है कि कल रात को नवादा बाईपास पर एक मूर्ति को तोड़ दिया गया था।

जिसके बाद से ही हालात बेकाबू होते चले गए। गाड़ियों को तोड़ने के अलावा कई दुकानों में भी आग लगा दी गई। जिला प्रशासन ने इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी है. हालांकि, इस हिंसा को देखते हुए इलाके में सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी गई है।

नवादा के जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि कुछ असमाजित तत्वों ने एक मूर्ति को तोड़ दिया, जिसकी वजह से दोनों समुदाय के लोग आपस में भिड़ गये। हालांकि अब हालात नियंत्रण में हैं.गौरतलब है कि रामनवमी की शोभायात्रा के दौरान बिहार के कई इलाकों में हिंसा की खबरें आई थीं। जिसमें कई लोग घायल भी हुए थे। बिहार के मुंगेर, औरंगाबाद, समस्तीपुर में हिंसा हुई थी, जिसके बाद लगातार नीतीश कुमार पर सवाल उठ रहे हैं।

बता दे कि बिहार हिंसा का लेकर विपक्ष लगातार सरकार को घेर रही हैं जिसमें तेजस्वी यादव की ओर से कहा गया हैं कि बिहार में हो रही हो रही हिंसा के लिए बीजेपी और संघ जिम्मेदार हैं तो वहीं गिरीराज सिंह ने बिहार हिंसा को लेकर कॉग्रेस को कटघरें में खड़ा किया हैं।

एलओयू पर प्रतिबंधः वित्त मंत्रालय ने आरबीआई से समाधान ढूंढने को कहा

Previous article

फिश स्पा और पेडिक्योर से हो सकती हैं HIV और हेपेटाइटिस जैसी घातक बीमारियां!

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.