मसूद अजहर मामले में अभी और स्टडी करने की जरूरत: चीन

मसूद अजहर मामले में अभी और स्टडी करने की जरूरत: चीन

एजेंसी, नई दिल्ली। चीन ने एक बार फिर भारत के खिलाफ अपने अन्दर जमा जहर का इजहार कर दिया। जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने के लिए चीन ने चौथी बार वीटो पावर का इस्तेमाल किया। चीन बोला कि मामले में थोड़ा और “स्टडी” करने की अवश्यकता है। साथ ही यह भी कहा कि वह भारत के साथ बेहतर संबंध बनाना चाहते हैं।

मालूम हो कि जैश-ए-मोहम्मद
के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र में वैश्विक आतंकी घोषित करने में अमेरिका की
चीन को चेतावनी भी काम नहीं आई। चीन ने बुधवार देर रात चौथी बार वीटो का इस्तेमाल कर
मसूद अजहर को संरक्षण दे दिया। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 प्रतिबंध समिति
के समक्ष मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए फ्रांस,ब्रिटेन और अमेरिका ने
27 फरवरी को प्रस्ताव पेश किया था। इसके बाद समिति ने सदस्य देशों को आपत्ति दर्ज करने
के लिए 10 दिनों का समय दिया था। यह मियाद भारतीय समयानुसार बुधवार देर रात साढ़े बारह
बजे समाप्त हो रही थी लेकिन चीन ने मियाद खत्म होने से ऐन कुछ घंटे पहले प्रस्ताव पर
तकनीकी के आधार पर अड़ंगा लगा दिया जबकि प्राय सभी देश मसूद पर प्रतिबंध के पक्ष में
थे। 

इस मामले में अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने पर चीन का विरोध क्षेत्रीय स्थिरता पर अमेरिका के साथ इसके पारस्परिक लक्ष्य के विपरीत है। पैलाडिनो ने वॉशिंगटन में कहा कि मसूद के संगठन जैश ए मोहम्मद को यूएन पहले ही आतंकी संगठन घोषित कर चुका है।

ऐसे में चीन ने अजहर को अपने संरक्षण में रखा है और उसे एक वैश्विक आतंकवादी घोषित के प्रयास के विरोध में वीटो करता रहा है। उन्होंने कहा कि अमेरिका और चीन क्षेत्रीय स्थिरता और शांति कायम करने को लेकर एक आपसी हित साझा करते हैं और अजहर को नामित करने में विफलता इस लक्ष्य के विपरीत है।