WhatsApp Image 2021 03 01 at 10.24.54 एक साल बाद दोस्तों से मिलकर बोले बच्चे, मैडम जी हमें नाय होएगो कोरोना, आप बस रोज आने दियो स्कूल

लखनऊ। कोरोना के चलते साल भर से घरों में बंद बच्चे सोमवार को स्कूल पहुंचे। दोस्तों से मिलकर खुश हुए बच्चे हफ्ते में केवल एक दिन आने की बात सुनकर निराश हो गए। टीचर से बोले, मैडम जी, हमें नाय होएगो कोरोना, आप बस रोज आने दियो स्कूल।

कोरोना के कारण देशभर के स्कूल करीब एक साल तक बंद रहे। सरकार के आदेश के बाद सोमवार को पहली से पांचवीं कक्षा तक के स्कूलों को भी खोल दिया गया।

बच्चों को लगाया गया टीका, पहनाई गई फूलों की मामला

प्रदेश के अधिकांश स्कूलों में बच्चों का टीका लगाकर स्वागत किया गया। शिक्षकों ने उन्हें माला पहनाई और बताया कि उन्हें महीने में किस-किस दिन स्कूल आना है। यार-दोस्तों से मिलकर बच्चे चहक उठे।

अभिभावकों का सवाल, सर, मैडम जी, बच्चों को खाना मिलेगा क्या

तमाम अभिभावक अपने बच्चों को लेकर स्कूल पहुंचे। उन्होंने शिक्षकों से पूछा कि बच्चों को स्कूल में खाना मिलेगा क्या। शिक्षकों ने हामी भरी तो वो भी खुश दिखाई दिए। अभिभावकों ने कहा कि स्कूलों में शिक्षक बच्चों की सुरक्षा का ध्यान रखें।

बच्चों को पूरी साफ सफाई से भेजें स्कूल

शिक्षकों ने अभिभावकों से कहा कि वो बच्चों को पूरी साफ सफाई से स्कूल भेजें। सुबह बच्चों को स्कूल भेजने ये पहले नहलाएं धुलाएं जरूर। उन्हें बार-बार हाथ धोना सिखाएं। स्कूलों में भी बच्चों को बार-बार हाथ धुलवाए जाएंगे।

एक ही दिन क्यों, रोज क्यों नहीं आ सकते स्कूल

कोरोना को देखते हुए स्कूलों में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन कराया जाएगा। ऐसे में एक दिन में दो कक्षाओं के आधे-आधे बच्चों को ही स्कूल बुलाया जाएगा। बाकी कक्षाओं की पढ़ाई पहले की तरह ऑनलाइन चलती रहेगी। एक ही दिन स्कूल आने की बात सुनकर तमाम बच्चे निराश हो गए। बच्चों ने शिक्षकों से कहा कि उन्हें अब कोरोना नहीं होगा। इसलिए स्कूल आने से नहीं रोका जाए। बच्चों के मासूम सवालों पर शिक्षकों ने उन्हें प्यार से समझाया। साथ ही कहा कि अगले कुछ दिन इंतजार कर लें। इसके बाद उन्हें रोज स्कूल आने को मिलेगा।

100 दिन के ज्ञानोत्सव से परखी जाएगी बच्चों की प्रतिभा

बरेली जिले के प्राइमरी स्कूल लखौरा की हेड टीचर नीता जोशी ने बताया कि अब बच्चों की पढ़ाई कक्षावार नहीं होगी। अगले 100 दिन तक हर स्कूल में ज्ञानोत्सव चलेगा। जिसमें हर बच्चे को उसकी उम्र और समझ के हिसाब से एक ग्रुप में रखा जाएगा। हर स्कूल में तीन ग्रुप बनेंगे। 100 दिन के बाद बच्चों के ज्ञान का स्तर परखकर उन्हें अगली कक्षा में प्रमोट किया जाएगा।

हर स्कूल में बच्चों की सुरक्षा के पूरे इंतजाम

सरकार ने सभी स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के सभी इंतजाम करने को कहा है। हर स्कूल में सेनेटाइजर रखना अनिवार्य होगा। बच्चे मास्क लगाकर स्कूल आएंगे और एक दूसरे से पर्याप्त दूरी बनाकर बैठेंगे। बच्चों को मिड-डे मील देते वक्त भी खासी सावधानी बरती जाएगी।

राम भक्त का अनोखा प्रण, राम मंदिर के लिए सिर पर उगाई अनाज की बालियां

Previous article

कोरोना अपेडट: नए मामलों में आई मामूली गिरावट, पांचवें दिन 16 हजार से कम केस

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.