मुख्य सचिव ने केदारनाथ पहुंचकर लिया पुनर्निर्माण कार्यों का जायजा लिया

केदारनाथ। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने रविवार को केदारनाथ धाम पहुंचकर वहां चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों का जायजा लिया । निर्माण कार्यों पर संतोष जताया। मुख्य सचिव ने केदारनाथ धाम से लिंचौली तक पैदल पैदल चलकर मार्ग का स्थलीय निरीक्षण किया। साथ ही निर्देश दिए कि यात्रा शुरू होने से पूर्व निर्माण कार्य पूर्ण किए जांए, ताकि यात्रा के दौरान श्रद्वालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पडे़।

Kedarnath
Kedarnath

बता दें कि केदारनाथ धाम में मुख्य सचिव उत्पल कुमार ने मंदिर से संगम स्थल तब बन रहे नए मार्ग का निरीक्षण किया। उन्होंने अधीक्षण अभियंता लोनिवि को हिदायत दी कि इस मार्ग पर पत्थरों से किया जाने वाला कार्य समय रहते पूर्ण किया जाय। इसके लिए स्थानीय कारीगर या मजदूरों को भी इस कार्य में शामिल किया जाए, ताकि जल्द से जल्द रास्ता तैयार हो सके। सिंचाई विभाग के कार्यों के निरीक्षण के दौरान मुख्य सचिव ने विभागीय अभियंता को निर्देशित किया कि घाट निर्माण व बाढ सुरक्षा के कार्य को जल्द पूरा करने के लिए अधिक से अधिक मजदूरों को काम पर लगाया जाय। कहा कि बर्फवारी होने पर कार्य बाधित हो जा रहे हैं, ऐसे में साफ मौसम के दौरान अधिक से अधिक कार्य पूर्ण कर लिया जाय।

मुख्य सचिव ने श्री केदारनाथ मंदिर के पीछे किए जा रहे कार्यों का भी जायजा लिया। उन्होंने निम को तत्काल मंदिर के पीछे लैंडस्केपिंग का कार्य पूर्ण करने के निर्देश दिए। कहा कि ब्रहम कमल और ब्लू पाॅपी की प्रजाति के पौधों का बगीचा तैयार किया जाय, जो श्रद्वालुओं के लिए आकर्षण का केन्द्र भी रहेगा। इसके साथ ही मुख्य सचिव ने एमआई-26 हैलीपैड से संगम तक पैदल मार्ग का निरीक्षण कर निम एवं लोनिवि के अधिकारियों को निर्देशित किया कि हर हाल में यात्रा शुरू होने से पूर्व मार्ग को तैयार कर लिया जाय। उन्होंने जिलाधिकारी को निर्देशित किया कि तीर्थ पुरोहितों के घरों की मरम्मत आगामी मई माह तक पूर्ण करवाना सुनिश्चित करें।

साथ ही तीर्थ पुरोहितों के जिन दो घरों के अग्र भाग का निर्माण पहाडी शैली के पत्थरों से किया जाना, उस कार्य को भी अप्रैल माह तक पूर्ण कर लिया जाय। मुख्य सचिव केदारनाथ में कार्यों के निरीक्षण के बाद मुख्य सचिव ने लिंनचैली तक पैदल मार्ग स्थलीय निरीक्षण किया और जिन स्थानों पर मार्ग क्षतिग्रस्त है उसे तत्काल ठीक करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आगामी यात्रा श्रद्वालुओं के लिए और अधिक सुगम और सुरक्षित हो यही सरकार की प्राथमिकता है और इसके लिए धाम में पुनर्निर्माण कार्य कर रही संस्थाओं को अधिक से अधिक तत्परता से कार्य करने की जरूरत है। इस मौके पर गढवाल आयुक्त दिलीप जावलकर, जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल, प्रधानाचार्य निम कर्नल अजय कोठियाल, एसपी प्रहलाद नारायण मीणा, व अन्य अधिकारी मौजदू थे।