सीएम साहब मनचलों ने जीना हराम कर रखा है, अब मरने के अलावा कोई चारा नहीं

मेरठ। मेरठ में मनचलों से तंग आकर एक छात्रा ने एक बार फिर अपनी पढ़ाई छोड़ दी है, लेकिन बावजूद इसके मनचलो का आतंक कम होने को तैयार नहीं है, और सरफिरे लगातार छेड़छाड़ कर रहे है, थाने में शिकायत करने के बाद भी पीड़िता को इंसाफ नहीं मिला, जबकि थानेदार ने सीमविवाद में पीड़िता को टरका दिया, लेकिन अब कार्यवाही न होने पर परेशान पीड़िता ने एसएसपी ऑफिस पहुँच इंसाफ की गुहार लगाई है। एसएसपी ऑफिस पहुंची ये तीनो माँ बेटी है, ये सभी थाना देहली गेट क्षेत्र के जलीकोठी इलाके में रहते है, इनकी माने तो इसी परिवार की एक बेटी मेरठ की चर्चित आइआइएमटी यूनिवर्स्टी में पोलोटेक्निक की पढ़ाई कर है।

लेकिन उन्ही की क्लास में पढ़ने वाले यमंदीप गौतम और सलमान छात्रा से फ्रेंडशिप करने के लिए दबाव बना रहे थे, लेकिन जब इंतहा हो गई तो छात्रा ने मनचलो की शिकायत देहली गेट थाने में कर दी, लेकिन थाना पुलिस ने आरोपियों का फोन छीना और फिर सेटिंग करके लोटा दिया, नतीजा, फिर से आरोपी छात्रा को परेशान करने लगे, और मज़बूर होकर छात्रा ने अपना कॉलेज और पढ़ाई दोनों छोड़ दी, लेकिन मामला यही नहीं रुका, यमन गौतम सनकी मनचला छात्रा के परिवार रिश्तेदारों को कॉल करके छात्रा को बदनाम करने लगा, आशिक मनचले का दुरशासा इतना पढ़ा की उसने छात्रा की पिता को रोककर दो दिन में शादी कराने की डिमांड रखी और डिमांड पूरी न होने पर दो दिनों में परिवार को जान से मरने की धमकी दे डाली, जिससे परिवार अब पूरी तरह दहसत में आ गया है, और एक बार फिर ठाणे पहुंचा लेकिन ठाणे से पीड़िता सहित परिवार को धित्कार कर भगा दिया गया,

वहीं परिवार सहित पीड़िता ने एसएसपी ऑफिस आकर आलाधिकारियों से इंसाफ की गुहार लगाई, और पुरे मामले को बताया तो अधिकारियो ने इंसाफ दिलाने का आश्वाशन दिया है, लेकिन यहां सवाल ये खड़ा होता है कि जब प्रदेश में एंटी रोमियो स्कवायर्ड है तो वो क्या कर रहा है, आखिर अब खा गया रोमियो स्क्वार्ड, बीच बिच में केवल मीडिया में फोटो खिचवाने के लिए अधिकारी स्कूल कालेजों की चेकिंग करते है और मनचलो को छोड़कर आम इंसानो को परेशान करते है, और मनचले लगातार अपनी हरकते करते जा रहे है, आपको बता दे रोमियो स्क्वायर्ड बनने के बाद भी ये कोई पहला मामला नहीं है, जब मनचलो को आतंक से कोई छात्रा अज़ीज़ आई हो इससे पहले थाना भाबवनपुर में एक छात्रा ने मनचलो से तंग आकर खुद को आग के हवाले करके अपनी जान देदी थी, जिसके बाद पुलिस जगी थी, लेकिन लगता है फिर से पुलिस सो गई है और थाना अध्यक्ष मठाधीस हो है जो इस तरह के मामलो को भी थानों से टरका देते है, जिसके परिणाम छात्रा की मौत के बाद देखने को मिलते है।