September 21, 2021 11:18 pm
featured छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ छापेमारी: मुख्यमंत्री की करीबी अधिकारी के ड्राइवर ने किया खुलासा, छापे से पहले सीएम हाउस गए थे 5 बैग

छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ छापेमारी: मुख्यमंत्री की करीबी अधिकारी के ड्राइवर ने किया खुलासा, छापे से पहले सीएम हाउस गए थे 5 बैग 

भिलाई। मुख्यमंत्री सचिवालय की उप-सचिव और मुख्यमंत्री की करीबी अधिकारी सौम्या चौरसिया ने आबकारी विभाग के ओएसडी अरुण पति त्रिपाठी के घर आयकर विभाग के छापे के अगले दिन अपने बंगले से पांच बैग सीएम हाउस पहुंचाए थे। आयकर अफसरों को इस बात की जानकारी सौम्या के सरकारी गाड़ी चलाने वाले ड्राइवर पन्नालाल ने दी है। दैनिक जागरण के सहयोगी अखबार नई दुनिया के अनुसार पूछताछ का एक वीडियो वायरल हुआ है। इसमें पन्नालाल कह रहा है कि 28 फरवरी को दोपहर 11 बजे सौम्या मैडम, पांच बड़े-बड़े बैग में दस्तावेज लेकर रायपुर में सीएम हाउस गईं थीं। 

नई दुनिया के अनुसार सौम्या चौरसिया की मौजूदगी में बंगले को सील करने के बाद दोबारा पहुंची आइटी टीम ने सील को खोला था और फिर पूछताछ की गई। इस दौरान ड्राइवर ने सौम्या के घर से सीएम हाउस तक पांच बैग पहुंचाने की जानकारी दी। 

गौरतलब है कि आयकर विभाग के अधिकारियों द्वारा सौम्या चौरसिया के जुनवानी रोड सूर्या रेसीडेंसी स्थित बंगले पर 28 फरवरी को छापा मारने पहुंची थी। इस दौरान उन्हें बंगला बंद मिला और अधिकारियों ने बंगले के बरामदे में ही बैठकर सौम्या का लगभग 30 घंटे तक इंतजार किया, लेकिन वह नहीं पहुंची। ऐसे में 29 फरवरी की शाम को बंगले को सील कर दिया गया।

सौम्या के पति सौरभ मोदी बंगला सील होने के कुछ घंटे बाद पहुंचे और सौम्या उसके दूसरे दिन रविवार की शाम को वहां पहुंचीं। इसके बाद आयकर विभाग के अधिकारियों से उन्होंने फोन पर बात की। आयकर विभाग के अफसर इसके बाद सोमवार को दोपहर 11:45 बजे बंगले पर फिर पहुंचे। दरवाजे की सील खोलकर जांच की गई। इस दौरान वहां सौम्या मौजूद रहीं। उनके साथ बंगले के भीतर वहां काम करने वाली दो महिलाएं भी रखी गईं हैं।

सौम्या के ड्राइवर पन्नालाल को अधिकारियों ने शाम को पूछताछ के लिए बुलाया। वह सौम्या की सरकारी गाड़ी को लेकर शाम 05:07 बजे पहुंचा। उसे 05:12 बजे बंगले के भीतर अधिकारियों ने बुलाया और फिर तीन मिनट के लिए बाहर कर दिया। फिर से उसे बंगले में बुलाया और पूछताछ की। इसके बाद वह 08:40 बजे बाहर निकला।

मीडिया से बातचीत करते हुए ड्राइवर ने बताया कि वो 28 फरवरी को दोपहर में सौम्या के कहने पर बंगले से चार-पांच बड़े-बड़े बैग में दस्तावेज लेकर रायपुर में सीएम हाउस गया था। उसने बैग छोड़ने के बाद पचपेड़ी नाका चौक पर सौम्या को छोड़ा और भिलाई वापस आ गया। सौम्या पचपेड़ी नाका चौक से किसी दूसरी गाड़ी से गई थीं। चालक फिर से रविवार को सौम्या के बुलाने पर रायपुर गया और उन्हें लेकर भिलाई पहुंचा था। उसने यह नहीं बताया कि कि वो दस्तावेज किस चीज के थे। जानकारी के अनुसार  दस्तावेज, जमीन और अन्य अघोषित संपत्ति से जुड़े हो सकते हैं। 

बता दें कि आयकर विभाग की टीम के पास एक कुछ दस्तावेज और शिकायत भी हैं। इसमें जिक्र है कि ठकुराइनटोला में कुल 28 प्लाट सौम्या की मां शांति देवी चौरसिया और सास आशा मणि मोदी के नाम पर है। फिजिकली और सॉफ्टवेयर की मदद से विभाग की टीम इससे जुड़े दस्तावेजों को खंगाल रही है। सौम्या  के बंगले और मां के फ्लैट को खरीदने के लिए इस्तेमाल की गई राशि के संबंध में जानकारी भी मांगी गई है।

Related posts

ममता के भतीजे ने दिया शाह को चुनौती कहा, बंगाल में 22 सीट क्या 22 बूथ जीत कर दिखाएं

mahesh yadav

घर में घुसकर रिश्तेदारों ने मारी गोली, युवक की हालत गंभीर

bharatkhabar

कोयला घोटाला : झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री कोड़ा सहित आठ अन्य आरोपी दोषी करार

Rani Naqvi