featured छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य में मजदूरों की आवाजाही पर रोक लगाने के दिए निर्देश

भूपेष बघेला छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य में मजदूरों की आवाजाही पर रोक लगाने के दिए निर्देश

रायपुर। छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य में मजदूरों की आवाजाही पर रोक लगाने का निर्देश दिया है। दिल्ली की घटना को देखते हुए यह निर्देश दिए गए है। इसके लिए यहां रह रहे दूसरे राज्यों के मजदूरों के रहने और खाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं दूसरे राज्यों से आने वाले छत्तीसगढ़ के मजदूरों के लिए राज्य की सीमा पर ही रहने और खाने की व्यवस्था की जाएगी।

विशेष विमान से शनिवार को कोरोना जांच किट उपलब्ध कराए जाने के बाद राज्य में जांच की संख्या बढ़ेगी। स्वास्थ्य मंत्री टीएसस सिंहदेव ने कहा कि अब रोजाना 1000 लोगों की जांच की जाएगी। अब तक जांच की रफ्तार काफी सुस्त थी, जिसके कारण मरीजों की संख्या कम नजर आ रही है। बताया जा रहा है कि जांच में तेजी आने पर कुछ नए इलाकों में मरीज मिल सकते हैं।

धुर नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक डॉ अभिषेक पल्लव खुद एमडी डिग्रीधारक डॉक्टर हैं। नक्सल मोर्चे पर वे एक हाथ में एके 47 और दूसरे हाथ में दवाओं का थैला लेकर चलते हैं। इसकी खूब चर्चा होती रही है। अब कोरोना का संकट आया तो भी एसपी अपनी जिम्मेदारी दोहरे मोर्चे पर थामे हुए हैं। वह सुदूर नक्सली इलाकों के फोर्स के कैंपों तक पहुंच रहे हैं। जवानों की हौसलाअफजाई के साथ ही उनका और ग्रामीणों का हेल्थ चेकअप कर रहे हैं। उन्हें कोरोना के प्रति जागरूक भी कर रहे हैं। प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की दवाएं भी दे रहे हैं।

बीजापुर जिले का तारलागुडम भोपालपटनम इलाका प्रदेश का सबसे गर्म इलाका है। यहां भूगर्भ में आग्नेय चट्टानें हैं इससे यहां धरती बहुत गर्म हो जाती है। वर्तमान में यहां पारा 40 डिग्री पार कर गया है। यह इलाका घने जंगलों पहाड़ों से घिरा है और घोर नक्सल प्रभावित है। यहां लगने वाले तेलंगाना और महाराष्ट्र बॉर्डर पर कोरोना की जांच के लिए पांच डाक्टर दिनरात ड्यूटी कर रहे हैं। इनके खाने पीने के इंतजाम में भी दिक्वत आ रही है पर ये योद्घा डटे हुए हैं।

प्रधानमंत्री बीमा योजना का लाभ पाने के लिए निर्धारित समय सीमा में फसल कटाई जरूरी है। राज्य सरकार ने भी आदेश जारी कर रखा है, लेकिन कोरोना की वजह से कटाई नहीं हो पा रही है। ऐसे में जनवरी-फरवरी में मौसम की वजह से हुई फसल क्षति की भरपाई के लिए बीमा का लाभ नहीं मिल पाएगा। इसी वजह से किसान नियमों में राहत देने की मांग कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ में कोरोना से निपटने के लिए दान देने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। भाजपा नेता प्रधानमंत्री राहत कोष में राशि जमा करा रहे हैं, तो कांग्रेस नेता, विधायक और मंत्री, मुख्यमंत्री राहत कोष में राशि जमा करा रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने 10 लाख और एक महीने का वेतन देने की घोषणा की है।

शहर में अंजू सिलाई सेंटर की संचालक और भाजपा की नेत्री अंजू राय ने देखा कि गरीब लोग, रिक्शा चालक, भिखारी आदि कोरोना संकट में बिना मास्क के घूम रहे हैं तो उन्होंने अपनी जिम्मेदारी समझी। अंजू लॉकडाउन के वक्त दिन-रात सिलाई मशीन पर बैठ गरीबों के लिए मास्क तैयार कर रही हैं। अब तक उन्होंने सात हजार मास्क बनाए हैं। अगले कुछ दिनों में एक लाख मास्क वितरित करने का लक्ष्य उन्होंने बनाया है। इस काम में सिलाई सेंटर की अन्य महिलाएं भी उनका हाथ बंटा रही हैं। कोरोना की वजह से राज्य विद्युत नियामक आयोग का कामकाज पूरी तरह ठप है। आयोग ने 31 मार्च तक सुनवाई समेत सभी कार्यवाही स्थगित कर दिए हैं। इससे बिजली की नई दर के निर्धारण की प्रक्रिया भी रक गई है। ऐसे में इस बार अप्रैल से नई दरें लागू नहीं हो पाएगी।

Related posts

…तो क्या अपने सांसद पर कार्रवाई नहीं करेगी शिवसेना!

kumari ashu

लोकसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने किया 5 उम्मीदवारों का ऐलान

mahesh yadav

महबूबा ने जम्मू एवं कश्मीर में उजाला योजना का शुभारंभ किया

bharatkhabar