featured देश राज्य

केरल की बाढ़: कांग्रेस की राष्ट्रीय आपदा मांग को केंद्र सरकार ने ठुकराया

केरल में बारिश थमने से लोगों को मिली राहत,बाढ की चपेट में आने से अब तक 370 लोगों की मौत

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री अल्फोंस कन्ननथानम ने केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की कांग्रेस नेताओं की मांग को खारिज कर दिया और कहा कि आपदा प्रबंधन कानून 2005 में ऐसा करने का प्रावधान नहीं है। इस संबंध में पूर्व रक्षा मंत्री और कांग्रेस नेता ए के एंटनी के बयान पर प्रतिक्रिया जताते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आपदा प्रबंधन कानून तब पारित किया गया था जब केंद्र में कांग्रेस नीत संप्रग की सरकार थी।

केरल में बारिश थमने से लोगों को मिली राहत,बाढ की चपेट में आने से अब तक 370 लोगों की मौत
केरल में बारिश थमने से लोगों को मिली राहत

कानून का दिया हवाला

एंटनी की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया जताते हुए कन्ननथानम ने कहा, ‘‘राष्ट्रीय आपदा घोषित करने का प्रावधान नहीं है। कांग्रेस जब 2004-14 में सत्ता में थी तो किसी भी आपदा को राष्ट्रीय आपदा नहीं घोषित किया गया था। ’’ उधर, आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने भी मांग की है कि केंद्र केरल की बाढ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करे।

विरोधियोंं ने दिया कांग्रेस का साथ

कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी, केरल के वामपंथी दलों और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने भी केंद्र सरकार से इसी तरह की मांग की है । नायडू ने कहा, ‘‘केंद्र को इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित करनी चाहिए। यह सबकी जिम्मेदारी है कि केरल में आम जनजीवन बहाल हो। ’’

राहुल ने की थी राष्ट्रीय आपदा की मांग

आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में पीएम मोदी को एक खत लिखकर केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की थी। मालूम हो कि केरल में बाढ़ ने तबाही मचा रखी है, अब तक बाढ़ से कुल 324 लोगों से ज्यादा लोगों की मौंत हो चुकी है। वहीं इस घटना को देखते हुए केंद्र सरकार ने केरल 500 करोड़ रुपए की मदद की है। वहीं कुछ राज्यों ने केरल सरकार की मदद के लिए आर्थिक सहायता का हाथ बढ़ाया है।

by ankit tripathi

Related posts

पीएनबी घोटाला-पहली चार्जशीट हुई दायर ,सीईओ समेत कई बड़े अफसर गिरफ्तार

mohini kushwaha

ट्रेन के लोको पायलट को क्लीन चिट दिए जाने पर भड़के सिद्धू, गाय के लिए ट्रेन रूक सकती है लेकिन लोगों के लिए नहीं

Rani Naqvi

रिटायरमेंट से पहले इन अहम मुद्दों पर फैसला सुना सकते हैं CJI दीपक मिश्रा

mahesh yadav