सीबीआई ने शुरु की इस्पेंक्टर हत्याकांड की जांच, फंस सकते है निर्दलीय विधायक राजा भैया

सीबीआई ने शुरु की इस्पेंक्टर हत्याकांड की जांच, फंस सकते है निर्दलीय विधायक राजा भैया

लखनऊः निर्दलीय विधायक राजा भैया की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। दरअसल, प्रतापगढ़ में तैनात इंस्पेक्टर अनिल सिंह हत्याकांड की जांच सीबीआई ने शुरू कर दी है। ऐसा माना जा रहा है कि सीबीआई जल्द घटनास्थल का मुआयना कर जांच की शुरुआत करेगी। और इस मामले में सीबीआई तत्कालीन एसपी से लेकर इंस्पेक्टर व राजा भैया से पूछताछ कर सकती है।

हाईकोर्ट के आदेश पर दर्ज हुई एफआईआऱ

वहीं जानकारी के मुताबिक अनिल सिंह की पत्नी आरती ने प्रतापगढ़ के तत्कालीन पुलिस अफसरों के साथ राजा भैया पर अपने इंस्पेक्टर पति को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था। सीबीआई ने हाईकोर्ट के आदेश पर एफआईआर दर्ज कर ली है और सीबीआई की लखनऊ यूनिट की स्पेशल क्राइम ब्रांच को जांच दे दी गई है।

इंस्पेक्टर की पत्नी ने लगाए गंभीर आरोप

हत्या के बाद इंस्पेक्टर की पत्नी आरती ने आरोप लगाया कि हत्या के वक्त इलाके के इंस्पेक्टर बलिराम मिश्रा मौजूद थे, और इंस्पेक्टर की मौजूदगी में गोली मारने वाले दोनों शूटर फरार हो गए। हाईकोर्ट में की गई सीबीआई जांच की सिफारिश में आरती ने साफ कहा उनके पति के व्हाटसएप चैट से खुलासा हुआ कि अनिल सिंह को रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया परेशान कर रहे थे।

गैर कानूनी काम करने से किया था इनकार

पत्नी के मुताबिक राजा भैया के इशारे पर अनिल सिंह ने गैर कानूनी काम करने से इनकार किया था। साथ ही यह भी बताया जा रहा है कि राजा भैया के मनमाफिक काम न करने के चलते तत्कालीन एसपी ने अनिल सिंह को सस्पेंड किया था।

ये है पूरा मामला

आपको बता दें कि 19 नवंबर 2015 को प्रतापगढ़ के होटल वैष्णवी में इंस्पेक्टर अनिल सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अनिल सिंह होटल वैष्णवी में ही रुके थे। होटल में नीचे लड़कों के बीच मारपीट की आवाज सुनाई दी तो अनिल सिंह नीचे पहुंचे और जहां पहले से घात लगाए बैठे बदमाशों ने अनिल सिंह पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी।