untitled 15 प्रदूषण की मार झेल रही राजधानी को मिली तीन स्मोग गन मशीन
राजधानी लखनऊ में बीते दिन हो प्रदूषण चरम पर था। हालात ऐसे होने लगे कि हवा दम घोटू हो गई थी। इसकी वजह से लोगों को कई तरह की बीमारियों का भी सामना करना पड़ा। इन सब में नगर निगम की लापरवाही को जिम्मेदार ठहराया गया। लेकिन इस बार नगर निगम ने प्रदूषण से राजधानी लखनऊ को बचाने के लिए अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसी कड़ी में राजधानी लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया ने  एंटी स्मोग गन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।
स्मोग गन से ये मिलेगा लाभ
एंटी स्मोग गन के प्रयोग से राजधानी लखनऊ में बढ़ते हुए प्रदूषण को नियंत्रित किया जा सकता है। इस मशीन की खासियत यह है कि यह हवा में उड़ रहे धूल के कण को कम करने के लिए पेड़ पौधों पर जमी धूल को साफ करने के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है। यह अपने अंदर उन सभी धूल के कड़ों को जो वातावरण में पूरी तरह से प्रवाहित है। उनको अपने अंदर सोख लेता है। जिससे की हवा साफ हो जाती है और वायु में से प्रदूषण कम हो जाता है। इन तीन मशीनों को राजधानी लखनऊ में संयुक्ता भाटिया के द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना कर दिया गया। इस अवसर पर महापौर के साथ नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी, अपर नगर आयुक्त राकेश यादव और जोनल अधिकारी सुभाष त्रिपाठी मौजूद रहे।
देश का सबसे प्रदूषित शहर बन गया था लखनऊ
बीते दिनों राजधानी लखनऊ में प्रदूषण चरम पर था। हालात ऐसे हो गए थे कि रोजाना आने वाले एयर इंडेक्स क्वालिटी में उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पूरे देश में प्रदूषण के मामले में नंबर 1 थी। जिसकी वजह से राजधानी लखनऊ की हवा दमघोटूँ हो गई थी। हालांकि उत्तर प्रदेश टॉप पोलूशन कंट्रोल बोर्ड के द्वारा तमाम तरह की योजनाएं शुरू की गई थी। इसके बाद प्रदूषण पर नियंत्रण पाया जा सका था। लेकिन उस दौरान राजधानी लखनऊ के अस्पतालों में भी सांस वाले मरीजों की संख्या काफी तेजी से बढ़ी थी। लेकिन इस बार एंटी स्मोग गन शुरू हो जाने के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि प्रदूषण में कमी आएगी।

LUCKNOW: चारबाग रेलवे स्टेशन पर शरारती बंदरों से मिलेगी मुक्ति, मंकी हैंडलर तैनात

Previous article

ड्रोन रेगुलेशन पर केंद्र सरकार सख्त, नियमों में संसोधन कर जारी की नई अधिसूचना

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.