featured यूपी

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में बदइंतजामी से परेशान हुए अभ्यर्थी, हाईकोर्ट जाने का बनाया प्लान

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में बदइंतजामी से परेशान हुए अभ्यर्थी, हाईकोर्ट जाने का बना रहे प्लान

प्रयागराज। प्रदेश में होने वाले असिस्टेंट प्रोफेसर वाले पदों के लिए अशासकीय प्राप्त विश्वविद्याय में 2003 पदों पर आवेदन किया गया है। लेकिन अभ्यर्थियों को परीक्षा की अंतिम तारीख का पता नहीं चल सका है। इसका कारण ये रहा है कि आवेदन तो कर दिया गया लेकिन विश्वविद्यालय में प्रिंट आउट नहीं निकल सका।

इन पदों के लिए सभी अभ्यर्थियों ने काफी पहले से ही आवेदन किया था लेकिन विश्वविद्यालय प्रशासन की बदइंतजामी का खामियाजा विश्वविद्यालय प्रशासन को भुगतना पड़ रहा है।

औपचारिकताएं पूरी करने पर भी हुई दिक्कत

अभ्यर्थियों ने सभी औपचारिकताएं जब पूरी कर ली थीं तो फिर उनको दिक्कतों का सामना क्यों करना पड़ रहा है। अभ्यर्थियों ने बताया कि सभी अभ्यर्थियों ने आवेदन की स्थिति को जानने की कोशिश की लेकिन वो अभी तक केवल विश्वविद्यालय प्रशासन के जवाब का ही इंतजार कर रहे हैं। कुछ अभ्यर्थी ऐसे भी है जो आवेदन के लिए फीस की प्रक्रिया बंद होने के कारण फीस नहीं दे सके हैं।

12 अप्रैल को थी आवेदन की अंतिम तारीफ

बताया जा रहा है कि फीस जमा करने की आखिरी तारीफ 12 अप्रैल थी लेकिन अंतिम समय में फीस देने की सुविधा ऐन मौके पर बंद कर दी गई। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के अभ्यर्थी एक हफ्ते से प्रशासन से जवाब मांग रहे हैं लेकिन कहीं से भी उनको जवाब नहीं मिल रहा है। अभ्यर्थियों ने उपमुख्यमंत्री से भी गुहार लगाई लेकिन वहां से भी उन्हें कोई जवाब नहीं मिला है।

हाईकोर्ट से मांगेंगे मदद: हाशमी 

ऐसे में एक अभ्यर्थी अंजर हाशमी ने साफ कह दिया है कि अब वो इलाहाबाद विश्वविद्यालय की बदइंतजामी के लिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय जाएंगे और वहीं पर जाकर हाईकोर्ट से मदद की गुहार लगाएंगे। अंजर हाशमी ने कहा कि वो आवेदन की तारीफ को आगे बढ़ाने के लिए हाईकोर्ट में अपील करेंगे।

Related posts

सेवा हमारी सबसे बड़ी पूंजी, नर सेवा मतलब नारायण की सेवा: भागवत

Vijay Shrer

भारत की एनएसजी सदस्यता के लिए अमेरिका की अपील

bharatkhabar

500, 1000 रुपये के नोट बंद होने से यूपी में हाई अलर्ट जारी

Anuradha Singh