बिज़नेस

जानकारी : 1 अक्टूबर 2022 से लागू होगा टोकेनाइजेशन सिस्टम , अब नहीं होगा फ्रॉड

chip card जानकारी : 1 अक्टूबर 2022 से लागू होगा टोकेनाइजेशन सिस्टम , अब नहीं होगा फ्रॉड

RBI ने कार्ड पेमेंट के टोकेनाइजेशन सिस्टम को 3 महीने के लिए आगे बढ़ा दिया है। अब यह सिस्टम 1 जुलाई की जगह 1 अक्टूबर से लागू होगा।

यह भी पढ़े

Maharashtra Political Crisis: इस्तीफे से पहले उद्धव ठाकरे कोरोना पॉजिटिव, कमलनाथ ने किया दावा

 

हालांकि सरकार पहले भी इसे लागू करने की डेडलाइन बढ़ा चुकी है। आपको बता दें कि इसके लागू होने के बाद आपको अपने कार्ड की डिटेल्स किसी भी थर्ड पार्टी ऐप के साथ शेयर नहीं करनी पड़ेगी। अभी ऐसा नहीं है, अभी अगर आप ऑनलाइन खाना मंगवाते हैं या कैब बुक करते हैं तो आपको कार्ड की डिटेल देनी होती है और यहां ग्राहक के कार्ड की पूरी डिटेल्स सेव हो जाती है। जहां फ्रॉड होने का खतरा बना रहता है। टोकेनाइजेशन सिस्टम से ऐसा नहीं होगा।

 

Debit card जानकारी : 1 अक्टूबर 2022 से लागू होगा टोकेनाइजेशन सिस्टम , अब नहीं होगा फ्रॉड

सरल शब्दों में इसे समझें तो टोकन में आपको अपनी कार्ड डिटेल्स को डालने की जरूरत नहीं होती है, इसकी जगह पर एक यूनीक ऑल्टरनेट नंबर होता है जिसे ‘टोकन’ कहते हैं, जो आपके कार्ड से लिंक होता है। जिसके इस्तेमाल से आपकी कार्ड डिटेल्स सुरक्षित रहती है। मतलब जब आप किसी ई-कॉमर्स वेबसाइट, जैसे- अमेजॉन या फ्लिपकार्ट पर शॉपिंग के बाद पेमेंट करेंगे तो आपको अपना 16 अंकों का कार्ड नंबर नहीं डालना होगा उसकी जगह पर टोकन नंबर डालना होगा।

दोनों कार्ड पर लागू होगा यह नियम

डेबिट और क्रेडिट दोनों कार्डधारकों को ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए हर बार अपने कार्ड के 16 अंकों के नंबर को दर्ज करने की जरूरत हो सकती है। फिलहाल ऐसा नियम है कि आपने एक बार पेमेंट कर दिया, तो दूसरी बार आपको केवल कार्ड वेरीफिकेशन वैल्यू (CVV) और वन टाइम पासवर्ड (OTP) ही देना होता है। इसके बाद आपका पेमेंट हो जाता है।

atm card जानकारी : 1 अक्टूबर 2022 से लागू होगा टोकेनाइजेशन सिस्टम , अब नहीं होगा फ्रॉड

डेटा रहेगा सुरक्षित, नहीं होगा फ्रॉड

कई शॉपिंग वेबसाइट और ऐप आपसे कार्ड डेटा स्टोर करने को कहते हैं। इससे खरीदारी में सुविधा होती है। लेकिन यह वेबसाइट या ऐप हैक हो जाए तो आपका आपका पैसा चोरी हो सकता है। अगर आपके डेटा की जगह एक टोकन नंबर दिया जाए तो खरीदारी तो आसानी से हो जाएगी, लेकिन डेटा चोरी का खतरा खत्म हो जाएगा।

Related posts

स्पेक्ट्रम की सबसे बड़ी नीलामी शुरू

Rahul srivastava

नोटबंदी और ट्रंप की जीत से शेयर बाजार लुढ़का

shipra saxena

सरकार ने सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत हर महीने बढ़ाने की घोषणा की

Rani Naqvi