यमुना नदी में चल रही अवैध वसूली को लेकर बुंदेलखंड आजाद सेना ने विभाग को लिखा पत्र, दी चेतावनी

यमुना नदी में चल रही अवैध वसूली को लेकर बुंदेलखंड आजाद सेना ने विभाग को लिखा पत्र, दी चेतावनी

नई दिल्ली: बांदा जिला के कमासिन क्षेत्र में सरकार की रोक के बावजूद यमुना नदी के एक घाट में अवैध वसूली की जा रही है। यह घाट किशनपुर में है। इसे दांदौ घाट को नाम से जानते हैं। आज सुबह बुंदेलखंड आजाद सेना के केंद्रीय अध्यक्ष प्रमोद आजाद ने इसी बारे में पत्र लिखकर अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड लोक निर्माण विभाग को चेतावनी दी।

प्रतीकात्मक तस्वीर

इससे पहले भी संगठन कर चुका है शिकायत

सरकार के रोक के बावजूद इस तरह की वसूली जारी है. आपको बता दें कि इससे पहले भी इस संगठन द्वारा लोक निर्माण विभाग को अवगत कराया गया था लेकिन उस शिकायत से शायद विभाग के कान में जूं तक नहीं रेंगी। न ही उस शिकायत का लूटेरों पर कोई असर पड़ा है। तमाम शिकायतों के बावजूद उस घाट में आज भी 10 रु. प्रति सवारी एक बार का यानी आने जाने के लिए आपको 20 रु खर्च करने पडेंगे। साइकिल सवार को 40 रुपए मोटरसाइकिल सवार को 60 रुपए प्रति उतारने के नाम पर लिया जाता है।

विभाग ने नहीं की कोई कार्रवाई

इस घाट में बड़ी नाव के साथ-साथ छोटी डॉगी भी चलाई जाती है. जिसमें यात्रा करना यानि अपनी मौत हथेली में लेकर चलने जैसा है। आपको बता दें कि इससे पहले भी संगठन के द्वारा विभाग को इस अवैध वसूली के बारे में शिकायत कर चुका है। लेकिन ताजा हालात को देखते हुए पिछली शिकायत का परिणाम शून्य नजर आ रहा है।

वहीं प्रमोद आजाद ने आरोप लगाया कि इससे पहले जो शिकायत की गई थी उसमें जांच करने वाले अधिकारियों ने अवैध वसूली लुटेरों को क्लीन चिट दे दी थी। संगठन ने पत्र में विभाग को चेतावनी देते हुए कहा गया है कि विभाग ने अगर तत्काल रूप से अवैध वसूली पर रोक लगाने का काम नहीं किया। तो 1 सप्ताह बाद इसके विरुद्ध आंदोलन किया जाएगा और इस आंदोलन की पूरी जिम्मेदारी अधिशासी अभियंता प्रांतीय खंड लोक निर्माण विभाग फतेहपुर की होगी

रिपोर्ट- महेश कुमार यदुवंशी