शख्सियत featured

बर्थडे स्पेशल-18साल की उम्र में मां बनने के बाद कैसे शुरू हुआ फिल्मी सफर

10 21 बर्थडे स्पेशल-18साल की उम्र में मां बनने के बाद कैसे शुरू हुआ फिल्मी सफर

नई दिल्ली। मौसमी चटर्जी अपने समय की संजीदा अभिनेत्री  में से एक है जो 26अप्रैल को अपना 65वां बर्थडे मना रही हैं। बॉलीवुड में अभिनेत्री मौसमी चटर्जी का एक अभिन्य रोल रहा हैं। और उनकी शानदार अदाकारी के लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है। सत्तर और अस्सी के दौर में अपनी रूमानी अदाओं से मौसमी चटर्जी ने दर्शकों को अपना दीवाना बनाकर दिया था।

10 21 बर्थडे स्पेशल-18साल की उम्र में मां बनने के बाद कैसे शुरू हुआ फिल्मी सफर

मौसमी चटर्जी का जन्म 26 अप्रैल 1953 को कलकत्ता में हुआ था और उन्होंने अपने करियर की शुरूआत 1967 में प्रदर्शित बंगला फ़िल्म ‘बालिका वधू’ से की थी जो कि सुपरहिट रही। मौसमी चटर्जी 18 साल की उम्र में मां बन गई थी और उन्होंने एक बेटी की को जन्म दिया था। बता दे कि मौसमी का कहना है कि ‘‘खुशकिस्मत हूं कि अच्छा पति और बेटियां मिलीं। ससुर हेमंत कुमार ने मुझे मुंबई में कभी यह फील नहीं होने दिया कि माता-पिता मेरे पास नहीं है। मैंने अपने पैसे से मर्सिडीज कार भी खरीदी थी। 18 साल की उम्र में एक बेटी की मां बन गई थी।

मुझे याद है कि डॉक्टर मुझसे कह रहे थे कि मेरे नर्सिंग होम में पहली बार एक बेबी ने बेबी को जन्म दिया। सभी ने उस समय मुझे मां न बनने की नसीहत दी थी। सबको लगता था कि मैं अपने कैरियर को लेकर गंभीर नहीं हूं। मैंने भी कई निर्माताओं को पैसा लौटा दिया था। मुझे भी लगा कि यही सेटेल होने का समय है। फिर एक के बाद एक फ़िल्में आती गईं और मैंने वापसी की।’’

09 16 बर्थडे स्पेशल-18साल की उम्र में मां बनने के बाद कैसे शुरू हुआ फिल्मी सफर

बॉलीवुड की शुरूआत
मौसमी चटर्जी ने अपने करियर की शुरूआत बंगाली फिल्म बालिका बधू से की थी लेकिन उन्होंने बॉलीवुड में अपने करियर की शुरूआत 1972 में प्रदर्शित फ़िल्म अनुराग से की। इस फ़िल्म में मौसमी के साथ विनोद मेहरा थे। शक्ति सामंत के निर्देशन में बनी अनुराग में मौसमी ने एक नेत्रहीन लड़की का किरदार निभाया था। कैरियर की शुरूआत में इस तरह का किरदार किसी भी नई अभिनेत्री के लिए जोखिम भरा हो सकता था लेकिन, मौसमी ने अपने संजीदा अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस फ़िल्म के लिए मौसमी को सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फ़िल्मफेयर अवार्ड से नॉमिनेट किया गया।

इसके बाद मौसमी चटर्जी ने 1974 में आई फिल्म रोटी कपड़ा और मकान और बेनाम जैसी सुपरहिट फिल्मे दी और उन्हें रोटी कपड़ा और मकान के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री के फ़िल्मफेयर पुरस्कार का नामांकन मिला। 1976 में मौसमी की एक और सुपरहिट फ़िल्म ’सबसे बड़ा रूपया’ प्रदर्शित हुई। मौसमी के कैरियर में उनकी जोड़ी सबसे अधिक विनोद मेहरा के साथ पसंद की गई। इसके अलावा मौसमी ने संजीव कुमार, जीतेंद्र, राजेश खन्ना, शशि कपूर और अमिताभ बच्चन जैसे सुपर स्टार्स के साथ भी काम किया। मौसमी ने हिंदी फ़िल्मों के अलावा कई बंगला फ़िल्मों में भी अपने अभिनय का कमाल दिखाया है। हाल ही में मौसमी चटर्जी फिल्म पीकू में नजर आ चुकी हैं।

Related posts

मेक इन इंडिया को लगा झटका, दूसरे साल भी सेना ने रिजेक्ट की स्वदेशी राइफल

Pradeep sharma

कोरोना अपडेटः 24 घंटे में सामने 41755 नए मरीज, 578 की मौत

Rahul

रणवीर कपूर हुए कोरोना पॉजिटिव, इंस्टाग्राम में मां नीतु कपूर ने दी जानकारी

Sachin Mishra