UP: भाजपा विधायक ने ही चुनाव आयोग के आदेश को बता दिया तानाशाही, जानिए पूरा मामला

हरदोई: उत्‍तर प्रदेश में त्रिस्‍तरीय पंचायत चुनाव को लेकर तैयारियां चरम पर हैं। इसी बीच भारतीय जनता पार्टी के विधायक श्‍याम प्रकाश ने राज्‍य निर्वाचन आयोग के आदेशों पर सवाल उठा दिए हैं।

हरदोई के गोपामऊ से बीजेपी विधायक श्‍याम प्रकाश द्वारा चुनाव आयोग के आदेशों पर सवाल उठाते हुए एक पोस्‍ट वायरल हो रहा है। इस पोस्‍ट में उन्‍होंने प्रधान प्रत्याशियों को वाहन न देने व एक साथ चार बैलेट पेपर देने को लेकर सवाल उठाते हुए नाराजगी जताई है।

पोस्‍ट में भाजपा विधायक ने क्‍या लिखा?

निर्वाचन आयोग के जारी पत्र को डालते हुए की गई पोस्ट में भाजपा विधायक ने लिखा- “पंचायत चुनाव प्रधान प्रत्याशी को वाहन न देना और मतदान में एक साथ चारों बैलेट पेपर देने का निर्णय अव्‍यवहारिक, अनुभवहीनता और तानाशाही से परिपूर्ण है। कृपया जिम्मेदार संज्ञान लें।”

facebook UP: भाजपा विधायक ने ही चुनाव आयोग के आदेश को बता दिया तानाशाही, जानिए पूरा मामला

 

यह था चुनाव आयोग का आदेश

दरअसल, राज्य निर्वाचन आयोग के विशेष कार्याधिकारी सतीश कुमार सिंह द्वारा जारी पत्र में कहा गया था कि, ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य व ग्राम पंचायत सदस्य का निर्वाचन क्षेत्र बड़ा नहीं होता। ऐसे में ग्राम प्रधान, बीडीसी व ग्राम पंचायत सदस्यों के उम्‍मीदवारों को प्रचार-प्रसार के लिए वाहन से चलने की अनुमति न प्रदान की जाए। वहीं, जिला पंचायत सदस्य का निर्वाचन क्षेत्र बड़ा होता है, ऐसे में उन्‍हें एक वाहन की अनुमति दी जा सकती है।

विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में हुए थे शामिल  

आपको बता दें कि श्‍माय प्रकाश गोपामऊ विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी के विधायक के रूप में चुने गए थे। भाजपा से पहले वह कई बार समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी से विधायक रह चुके थे। उन्‍हें पासी समाज का प्रमुखता से प्रतिनिधित्व करने वाला तेज तर्रार विधायक माना जाता है। श्‍याम प्रकाश विधानसभा चुनाव से पहले ही बीजेपी में शामिल हुए और विधायक चुन लिए गए थे। वह प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद से ही विभिन्न मांगों को लेकर के मुखर रहे हैं और संगठन और उनके बीच स्थानीय स्तर पर बहुत अच्छे तालमेल नहीं देखे गए।

प्रदेश के 75 जनपदों में 83 कोविड चिकित्सालय हुए संचालित

Previous article

Lucknow: कोरोना संक्रमित मोटर मैकेनिक को अस्पताल ने नहीं किया भर्ती, मरीज का हुआ ये हाल

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured