bjp mla बीजेपी विधायक का शर्मनाक बयान, भरी सभा में वैश्याओं से कर डाली अधिकारियों के चरित्र की तुलना

अक्सर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले उत्तर प्रदेश के बैरिया से भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) के विधायक सुरेंद्र सिंह ने इस बार अधिकारियों को लेकर विवादित बयान दे ड़ाला। एक जनसभा को संबोधित कर रहे सुरेंद्र अपने बयान में इतना मश्गूल थे कि उनको इतना तक पता नहीं चला कि उन्होंने विधायकों की तुलना वैश्याओं से कर ड़ाला।

 

bjp mla बीजेपी विधायक का शर्मनाक बयान, भरी सभा में वैश्याओं से कर डाली अधिकारियों के चरित्र की तुलना

 

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, बलिया के बैरियां से बीजेपी विधायक सुरेन्द्र सिंह अपने सैकड़ों समर्थकों सहित मंगलवार(5 जून) को बैरिया तहसील में आयोजित सम्पूर्ण समाधान दिवस कार्यक्रम में पहुंचे तथा इसे चेतावनी दिवस के रूप में मनाया। उन्होंने तहसील के कर्मचारियों और अधिकारियों के रवैये पर नाराजगी जताई।

 

मेरठ: आशिकी में अपने बीवी-बेटे के खून का प्यासा बना पीएसी सिपाही, पीएसी कैंपस के बाहर ही पत्नि पर किया जानलेवा हमला

 

उन्होंने अपने समर्थकों से कहा कि ‘घूस मांगे तो घूसा दो, नहीं माने तो जूता दो।’ सिंह ने अधिकारियों और कर्मचारियों पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कहा कि कोई भी कर्मचारी और अधिकारी अगर रिश्वत मांगता है तो उसकी आवाज को रिकार्ड कर लें और उनके सामने प्रस्तुत करें, कर्मचारी इसके बाद भी न माने तो उसे सबक सिखायें।

 

 

भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, सुरेन्द्र सिंह ने अपने बयान का बाद में बचाव करते हुए कहा कि यह जनता के हित में है और वह लोगों के कल्याण के लिए जेल भी जाने को तैयार हैं।

 

योगी सरकार ने दिया रामदेव को झटका, पार्क के लिए दी गई जमीन को किया रद्द्

 

वहीं, समाचार एजेंसी ANI की रिपोर्ट के मुताबिक, बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि, ‘ऑफिशियल्स से अच्छा चरित्र वैश्याओं का होता है, वह पैसा लेकर कम से कम अपना काम तो करती हैं और स्टेज पर नाचती हैं। पर ये ऑफिशियल्स तो पैसा लेकर भी आपका काम करेंगे कि नहीं, इसकी कोई गारंटी नहीं है।’

 

गौरतलब है कि सुरेन्द्र सिंह अक्सर विवादित बयान देते नजर आते हैं। उन्होंने कैराना लोकसभा सीट और नूरपुर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी की हार के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्रियों को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने कहा था कि अगर योगी सरकार के कुछ मंत्रियों को हटाया नहीं गया तो यूपी में बीजेपी का नीचे की ओर जाना तय है।

प्रकाश पंत और आयुक्त राज्य कर द्वारा उत्तराखण्ड में वार्षिक स्थानांतरण ऑनलाईन काउंसलिंग की गयी

Previous article

पॉलीथीन मुक्त राज्य एवं पर्यावरण संरक्षण के अन्य कार्यों लिए बनाई जायेगी ईको टॉस्क फोर्स

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.