बिकरू कांड: STF की गिरफ्त में आए विकास दुबे के सात मददगार   

कानपुर: उत्‍तर प्रदेश के कानपुर जिले के बहुचर्चित बिकरू कांड में स्‍पेशल टास्‍क फोर्स (STF) को बड़ी कामयाबी मिली है। सोमवार को एसटीएफ ने विकास दुबे के सात मददगारों को गिरफ्तार कर लिया है।

यह भी पढ़ें: अखिलेश यादव से मिले द ग्रेट खली, कहा- मैं इनका बहुत बड़ा फैन   

पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने इनके पास से सेमी ऑटोमैटिक स्प्रिंगफील्ड राइफल सहित कई हथियार जब्‍त किए हैं। इनके पास से बरामद राइफल का प्रयोग पुलिसवालों पर अटैक में किया गया था। पुलिस ने इन हथियारों की खोज में दुर्दांत अपराधी विकास दुबे का घर तक खोद डाला था। यही नहीं, कई दिनों तक उसके घर से कुछ दूर स्थित तालाब में भी तलाशी अभियान छेड़ रखा था।

एडीजी एसटीएफ अमिताभ यश ने दी जानकारी

एडीजी एसटीएफ अमिताभ यश ने पत्रकारों से बातचीत में बताया, STF ने सोमवार को विकास दुबे को शरण देने वाले सात लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से एक राइफल, एक सिंगल बैरल बंदूक, एक बार में 20 राउंड फायर करने वाली फुली ऑटोमेटिक कार्बाइन और एक रिवाल्वर बरामद की गई है।

 

 

विकास दुबे को घर में पनाह देने वाला भी गिरफ्तार

बताया जा रहा है कि एसटीएफ ने जिन सात लोगों को गिरफ्तार किया है, उनमें एक शख्‍स कानपुर देहात का भी है, जिसने वारदात के बाद अपराधी विकास दुबे को अपने घर में दो दिनों तक पनाह दी थी। साथ ही पुलिस ने उस शख्‍स को भी गिरफ्तार कर लिया है, जिसकी गाड़ी में छिपाकर विकास को कानपुर से बाहर निकाला गया था।

 

 

क्‍या है बिकरू कांड?

दरअलस, साल 2020 में दो जुलाई की रात कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव में दबिश देने गई पुलिस टीम पर गैंगस्टर विकास दुबे और उसके गुर्गों ने अटैक कर दिया था। इस वारदात में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी। घटना के बाद विकास मौके से रात में ही फरार हो गया और अपने सहयोगियों के पास जाकर छिप गया। इस घटना के लगभग सात दिन बाद विकास दुबे को मध्य प्रदेश पुलिस ने महाकाल मंदिर से पकड़कर यूपी पुलिस के सुपुर्द किया। मध्य प्रदेश से कानपुर लाते समय गाड़ी पलट जाने पर दुर्दांत विकास ने भागने की कोशिश की तो यूपी पुलिस ने उसे एनकाउंटर में मार गिराया था।

बर्थडे पर बिहार के सीएम ने लगवाया कोरोना का टीका, वैक्सीन लगवाने वाले पहले सीएम बने नीतीश

Previous article

सीएम त्रिवेंद्र सिंह का कार्यकर्ताओं को मंत्र, कहा- जनता के साथ तालमेल जरूरी

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured