dhamaka बिहार: बांका के मदरसे में हुए भीषण विस्फोट पर सवाल ! जानिए पूरा मामला

अतीश दीपंकर, संवाददाता, बांका

बिहार के भागलपुर प्रमंडल के बांका जिला के नवटोलिया के इस्लामपुर मस्जिद परिसर में कल हुए भीषण विस्फोट पर कई सवाल खड़े हो रहें हैं। हालांकि आधिकारिक तौर पर अभी कोई बयान सामने नहीं आया है।

घटना में इमाम अब्दुल मोमिन अंसारी की मौत

बता दें कि कल मस्जिद के मदरसे में जोरदार धमाका हुआ था जिससे मदरसे की इमारत ध्वस्त होकर गिर गई थी। इस घटना से मलबे में दबकर मस्जिद के इमाम मौलाना अब्दुल मोमिन अंसारी की मौत हो गई। वहीं सूत्रों के अनुसार धमाके के बाद इमाम के शव को लोगों ने गायब कर दिया था। और कल शाम को उनके शव को गांव में लाकर छोड़ दिया। जिसे पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

कई बम फटने की आशंका

लोगों ने मदरसे में कई बम फटने की आशंका भी जताई है। साथ ही इसमें 6 लोगों के जख्मी होने की भी सूचना सामने आ रही है। विस्फोट होने की सूचना मिलते ही वहां के एसपी अरविंद कुमार गुप्ता मामले की जांच करने घटनास्थल पर पहुंचे, साथ ही फॉरेंसिक टीम को भी लगा दिया।

मस्जिद कमेटी के सदस्य गायब

एसपी ने कहा कि एफएसएल टीम द्वारा जांच के बाद ही विस्फोट के कारणों का पता चल पाएगा। घटनास्थल पर एसपी के अलावे एएसपी अयोध्या सिंह, एसडीपीओ दिनेश चंद्र श्रीवास्तव, थाना अध्यक्ष शंभू यादव समेत अन्य लोग मौजूद रहे। वहीं मस्जिद कमेटी के सदस्य सहित गांव के अधिकतर ग्रामीण गायब मिले।

विभिन्न बिंदुओं पर जांच चल रही है- SP

दिनभर इस घटना की जांच पुलिस करती रही, लेकिन ठोस नतीजे पर अभी तक पुलिस नहीं पहुंच पाई है। बांका के एसपी अरविंद कुमार गुप्ता ने बताया कि मस्जिद में विस्फोट मामले को लेकर विभिन्न बिंदुओं पर जांच चल रही है। उन्होंने कहा कि मामले में जिस कीसी की भी संलिप्तता होगी उस पर पुलिस कार्रवाई करेगी।

फॉरेंसिक टीम को मिले खून के छींटे

वही फॉरेंसिक टीम के पदाधिकारी सर्वोत्तम कुमार का कहना है कि, प्रथम दृष्टया ये प्रतीत होता है कि यहां कोई बम धमाका ही हुआ है। हालांकि बम की क्षमता कितनी थी अभी इस पर जांच चल रही है।

सूत्रों की माने तो मदरसा के ध्वस्त मलवे से फॉरेंसिक टीम को खून के कुछ छींटे के मिलने की भी बात सामने आ रही है लेकिन इसकी पुष्टि सरकारी स्तर पर नहीं की गई है।

जितिन प्रसाद: कांग्रेस के खिलाफ पहली बार नहीं की है बगावत, पिता जितेन्द्र प्रसाद सोनिया गांधी को नहीं बनने देना चाहते थे अध्यक्ष

Previous article

कमल छोड़ साइकिल पर सवार हुए शिवशंकर पटेल, अखिलेश ने कही ये बात!

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured