बिहार में यें कंपनी जमीन कराती थी कब्जा-13 सदस्य हिरासत में

नई दिल्ली। बिहार में सिक्योरिटी कंपनी की आड़ में चल रही  कंपनी की पोल खुल गई हैं। बता दे कि ये कंपनी ग्रामीण इलाकों में जमीन पर कब्जा दिलाता था जिसकी पोल खुल गयी है। वर्दी, हथियार के साथ इस गैंग के 13 सदस्य पटना पुलिस के हत्थे चढ़ गया है बिहार मे चल रही ये ंस्मार्ट गैंग किसी अपराधी के नाम पर नहीं चल रही हैं बल्किस्मार्ट डिटेक्टिव एंड सिक्योरिटी सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के नाम से चलाई जा रही हैं। जो कि   सिक्योरटी कंपनी के नाम पर चलाई जा रही हैं। बता दे कि इस गैंग का ऑफिस कंकड़बाग में हैं और यह गैंग पूरे बिहार में सिक्योरिटी कंपनी की आड़ में दबंगई कर रहा था।
बता दे कि पुलिस के हिरासत लेने के समय भी  इस गैंग ने सूबे के एक डीजी का नाम लेकर पुलिस पर दबाव बनाने की भी कोशिश की थी पर पुलिस ने कंपनी के जीएम जुगल किशोर सिंह, शैलेंद्र कुमार सिंह समेत सभी नौ गार्ड और दो ड्राइवरों को गिरफ्तार की ली। इनके पास से पांच बंदूक, पांच राइफल, 315 की 70 कारतूस और 12 बोर के 49 कारतूस बरामद की गयी. इन सभी को गांधी मैदान थाने लाया गया, जहां से सभी को जेल भेज दिया गया।
वैशाली जिले के पातेपुर थानान्तर्गत  अफजलपुर गांव में राष्ट्रीय एकता सम्मेलन आयोजित किया गया था। सम्मेलन में सुरक्षा के नाम पर 800 प्रति गार्ड के रूप में सिक्योरिटी कंपनी के 09 गार्डों को हायर किया गया था। लेकिन इसका मकसद सम्मेलन में शामिल होना नहीं था, बल्कि इसी गांव में एक विवादित जमीन को कब्जा दिलाना था।
इसके लिए गुरुवार की रात वे लोग वहां पहुंचे थे। वहां पर बिहार की एक सुरक्षा एजेंसी के नाम पर धौंस जमा कर जमीन का मामला निबटाया गया और देर रात ये लोग दो एसयूबी गाड़ी से पटना पहुंचे. दो गाड़ी, 09 लोग, 10 असलहे के साथ लव कुश टावर के पास एक पेट्रोल पंप पर ये लोग दबंगई कर रहे थे। गश्ती पर एएसपी ऑपरेशन ने जब पूछताछ की तो ये भिड़ गये।
जम्मू-कश्मीर से लिया गया है आर्म्स का लाइसेंस : इनके पास से जो हथियार मिले हैं, वे सभी लाइसेंसी तो हैं, लेकिन दो रायफल को मोडिफाई करके एके-47 की शक्ल दी गयी थी. दो लाइसेंस जम्मू-कश्मीर से लिया गया है, इसका सत्यापन हो रहा है।
पुलिस ने सभी 09 गार्ड, कंपनी के जीएम जुगल किशोर सिंह, एमडी रंजित पटेल उनकी पत्नी अरुधंति तिवारी, शैलेंद्र कुमार सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया है. इन लोगों के खिलाफ 147,148,149,150, 384, 420, 353,120बी, आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।
 
ये हुए गिरफ्तार 
जुगल किशोर सिंह, शैलेंद्र कुमार सिंह, लालजी (गोआर धर्मपुर, बाढ़), रघुनाथ सिंह (सन्या बरहटा, जगदीशपुर, आरा), बिजेंद्र राय (दियामान, बक्सर), दिलीप कुमार सिंह (चकसिंगार, वैशाली), लक्ष्मण सिंह (तरहनी, कैमुर, भभुआ), मधुरेंद्र कुमार सिंह (तरैना, छपरा), शंभू शरण शर्मा (बारा, संदेश, आरा), केदारनाथ सिंह (राधाखंड, कैमुर, भभुआ), एसएम शम्मी इमाम (चौंदी, बाढ़), अशोक कुमार (मशरख, सारण), अरुण कुमार सहनी, (राजपुरबुजुर्ग, समस्तीपुर) और इसी के साथ बिहार के उस शातिर गैंग से लोगो को छुटकारा मिल गया हैं जो उनसे जबरदस्ती जमीन हथिया रहा था।