बिहार-पत्रकारों की हत्या मामलें में पुलिस की मिली भगत

बिहार-पत्रकारों की हत्या मामलें में पुलिस की मिली भगत

नई दिल्ली।  पत्रकार पर हत्या के मामलें दिनों दिन बढ़ते ही जा रहे हैं बिहार में आरा में भी एक बार फिर पत्रकार के हत्या का एक मामला सामनें आया हैं जिसमें दो पत्रकारो को कार द्रारा कुचल दिया गया हैं बता दे कि ये ंघटना भोजपुर जिले में आरा मे ंघटित हुई हैं जिनकी अनियंत्रित स्कार्पियों की टक्कर से मौके पर ही मौत हो गई थी। घटना गड़हनी थाना क्षेत्र के नहसी पुल के समीप देर रात हुई। घटना को हत्‍या बताते हुए स्‍थानीय लोग सड़क पर उतर आए। लोगों ने आरोपित पूर्व मुखिया के पति व उनके बेटे को गिरफ्तार करने की मांग की। आक्रोशित भीड़ ने आरा-सासाराम मुख्य पथ जाम कर आगजनी की।

घटना को लेकर पुलिस मुख्‍यालय गंभीर हो गया है। घटना की जांच को लेकर डीएसपी के नेतृत्‍व में एसआइटी का गठन कर दिया गया है। पटना के जोनल आइजी नैयर हसनैन खान मामले की मॉनीटरिंग कर रहे हैं। इस बीच मुख्‍य आरोपी हरसू मिंया को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
मिली जानकारी के अनुसार गड़हनी थाना क्षेत्र के बगवां गांव निवासी खजांची सिंह के पुत्र नवीन निश्चल एक हिंदी दैनिक के लिए काम करते थे। वे बाइक पर गांव के ही एक पत्रिका के लिए काम करने वाले पत्रकार विजय सिंह के साथ घर लौट रहे थे। इसी दौरान उन्‍हें तेज रफ्तार स्‍कॉर्पियो ने ठोकर मार दी। दोनों की मौके पर ही मौत हो गई।

बिहार के भोजपुर जिले में दो पत्रकारों की हत्या करने के आरोप में पूर्व मुखिया के पति मोहम्मद हरसू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दोनों पत्रकार रामनवमी जुलूस के कवरेज के बाद बाइक से अपने घर लौट रहे थे। रास्ते में स्कॉर्पियो गाड़ी से उन्हें बुरी तरह कुचल दिया गया। इसके बाद लोगों ने जमकर बवाल किया है। पुलिस तफ्तीश में जुटी है।

जानकारी के मुताबिक, रविवार शाम को बीच बाजार में पूर्व मुखिया के पति मोहम्मद हरसू और पत्रकार नवीन निश्चल के बीच किसी खबर को लेकर विवाद हो गया। इसके बाद हरसू ने नवीन को अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। रामनवमी जुलूस के कवरेज के बाद नवीन अपने साथी विजय के साथ बाइक से घर लौट रहे थे। रास्ते में उन्हें घेर लिया गया।

बताया जा रहा है कि मोहम्मद हरसू और उसके बेटे ने अपनी स्कॉर्पियो गाड़ी से नवीन की बाइक में जोर दार टक्कर मारी. दोनों नीचे गिर गए, तो गाड़ी से कुचल-कुचल कर उनकी हत्या कर दी गई. इसके बाद आरोपी वहां से फरार होने लगे। इसी बीच ग्रामीणों को इसकी सूचना मिली। लोग घटनास्थल की तरफ भागे। लोगों ने गाड़ी को आग के हवाले कर दिया।

इस घटना की सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भेज दिया. आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करके मुख्य आरोपी मोहम्मद हरसू को गिरफ्तार कर लिया गया। उसका बेटा फरार बताया जा रहा है। पूर्व मुखिया का बेटा दंगा कराने का आरोपी है और हाल ही में जेल से छूटा है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

बताते चलें कि बिहार में पत्रकारों की हत्या संबंधी घटनाएं लगातार सामने आ रही है. पिछले दो सालों में पांच पत्रकारों की हत्या हो गई है। इनमें सीतामढ़ी के अजय विद्रोही, गया के मिथिलेश पांडेय, रोहतास के धमेंद्र सिंह, समस्तीपुर के ब्रजकिशोर और सीवान के राजदेव रंजन का नाम शामिल हैं. राजदेव केस में बाहुबली शहाबुद्दीन अंसारी का नाम सामने आया था। फिलहाल पुलिस इस मामले ंमें जांच कर रही हैं।