शिक्षा को मिला बल राज्य शिक्षा वित्त निगम का हुआ उद्घाटन

शिक्षा को मिला बल राज्य शिक्षा वित्त निगम का हुआ उद्घाटन

नई दिल्ली। शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए बिहार के ख्यमंत्री नीतीश कुमार की ओर से बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम की शुरूआत की गई हैं जिसका मकसद हैं कि जो स्टूडेंट हैं वो अब बिहार राज्य शिक्षा वित्त निगम से लोन ले सकेगें। बता दे कि पहले स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के तहत बैंकों से लोन ले सकते हैं लेकिन अब राज्य शिक्षा वित्त निगम से लोन ले सकते हैं बता दे कि राज्य शिक्षा वित्त निगम की शुरूआत करने का मकसद यें हैं कि  छात्रों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो औऱ वो अपनी पढ़ाई लिखाई कर सकें।

बता दे कि नितीश कुमार की ओर से कहा गया हैं कि राज्य शिक्षा वित्त निगम की शुरूआत करने में शिक्षा विभाग और वित्त विभाग की ओर से काफी मेहनत की गई हैं और उसके बाद ही यें शुरू हो पाया हैं जिसका उदघाटन नीतीश कुमार की ओर से किया गया हैं। आपको बता दे कि राज्य शिक्षा वित्त निगम के माध्यम से मिलने वाले ऋण पर ब्याज की दर सिर्फ 4 प्रतिशत है तो वहीं दूसरी ओर दिव्यांगों, छात्राओं और ट्रांसजेंडर को सिर्फ एक प्रतिशत ब्याज दर सो लोन दिया जाएगा।

बता दे कि कार्यपालक पदाधिकारी सह प्रबंध निदेशक की नियुक्ति इस वित्त निगम में की गई हैं इसकी जानकारी नीतीश कुमार ओर से दी गई हैं। इस निगम के साथ जिला केन्द्र के डीआरसीसी को भी जोड़ दिया गया है बता दे कि अगर कोई भी छात्र डीआरसीसी में जाकर आवेदन करेगा तो वहीं उसका आवेदन वित्त निगम चला जाएगा। बता दे कि इसका लक्ष्य ग्रॉस इनरोलमेंट रेशियो को आगे बढ़ाना हैं।

बता दे कि नीतीश कुमार की ओर से कहा गया हैं कि पहले 12वीं कक्षा के बाद शिक्षा ग्रहण करने वाले विद्यार्थियों की संख्या सिर्फ 13.9 फीसदी हुआ करती थी लेकिन इस योजना के आने के बाद यह ग्रोथ बढ़कर 14.3 प्रतिशत हो गई है। और अगर बात करें राष्ट्रीय स्तर तो यें करीब 24 प्रतिशत हो गई हैं। इसमें कम से कम 30 प्रतिशत तक की वृद्धि का लक्ष्य रखा है और इसके आगे 35 से 40 प्रतिशत तक ले जाना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अध्ययन से पता चला है कि गरीबी के कारण 12वीं के बाद बच्चे नहीं पढ़ पाते हैं।