featured यूपी

गोंडाः स्वास्थ्य महकमें की बड़ी लापरवाही आई सामने, बढ़ा पीड़ित की जान को खतरा

गोंडाः स्वास्थ्य महकमें की बड़ी लापरवाही आई सामने, बढ़ा पीड़ित की जान को खतरा

गोंडाः स्वास्थ्य महकमें की नींद उस वक्त उड़ गई जब कर्मचारियों ने एक युवक को पहले कोविडशील्ड की डोज लगाई और फिर बाद में कोवैक्सीन की डोज। दो अलग-अलग डोज लगवाने के बाद पीड़ित गिरिराज का स्वास्थ्य बिगड़ गया। तेज बुखार, जुखाम और सांस लेने की तकलीफ बढ़ने लगी। वहीं, स्वास्थ्य विभाग की इस लापरवाही के चलते युवक की जान खतरे में आ गई।

बता दें, आईसीएमआर की ओर से जारी गाइडलाइन के मुताबिक वैक्सीनेशन के दौरान इस बार का ख्याल रखना अनिवार्य है कि जिस व्यक्ति को पहली डोज जिस वैक्सीन की लगी है, उसे दूसरी डोज भी उसी वैक्सीन की लगनी चाहिए। गोंडा जिले में स्वास्थ्य महकमें में ऐसी गाइडलाइन्स का महत्व बिल्कुल नहीं है। वहीं, स्वास्थ विभाग के अधिकारी अब इस लापरवाही का जिम्मा स्वास्थ्य कर्मचारियों पर लाद रहे हैं।

स्वास्थ्य महकमें के अधिकारी व कर्मचारी अपनी गलती छुपाने की पूरी कोशिश में जुटे हुए हैं। जब कर्मचारियों को अपनी गलती का एहसास हुआ तो वो पीड़ित को समझाने लगे और अपनी गलती छुपाने का प्रयास किया।

वहीं, जिला अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ घनश्याम सिंह का कहना है कि सैद्धांतिक रूप से अगर वैक्सीन की दूसरी डोज लग गई है तो कोई दिक्कत नहीं है, कोविशील्ड बाद कोवैक्सीन या कोवैक्सीन के बाद कोविशील्ड लग गई हो। लेकिन सरकार की गाइडलाइन है कि जो डोज पहले दी गई है, वही डोज दूसरी बार भी लगाई जाए। अभी मिक्स वैक्सीन लगाने की कोई गाइडलाइन नहीं आई है। जिस स्वास्थ्यकर्मी ने सेकंड डोज लगाया है, उससे गलती हुई है।

Related posts

वर्चुअल मीटिंग में बोले नवजोत सिंह सिद्धू- कैप्टन को सीएम पद से हटाने के बाद लोगों का विश्वास जीता

Saurabh

कोरोना वायरस के कारण पाकिस्तान की बढ़ी मुसीबत, जवानों ने ड्यूटी पर जाने से किया इंकार

Rani Naqvi

भावुक हुई शशिकला, पन्नीरसेल्वम ने कहा बंद करो मगरमच्छ के आंसू बहाना

shipra saxena