भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण जेल से हुए रिहा

नई दिल्ली:भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण को जेल से रिहा कर दिया गया है। देर रात करीब ढ़ाई बजे उन्हें रिहा किया गया है। जेल के बाहर उनके समर्थक भारी संख्या में मौजूद थे। रिहा होते ही रावण ने कहा कि उनका टारगेट बीजेपी को हराना है।

 

 

ये भी पढें:

 

उत्तराखंडःसंस्कृत शिक्षा मंत्री ने सचिव संघ की नवीन कार्यकारिणी के पदाधिकारियों को शपथ ग्रहण कराई
उत्तराखंडः 4730 अवैध अतिक्रमणों का ध्वस्तीकरण, 8518 का चिन्हीकरण व 136 की सीलिंग हुई

 

उन्होंने कहा कि बीजेपी को सत्ता से उखाड़ फेंकना ही उनका लक्ष्य होगा। उन्होंने साफ कहा कि भीम आर्मी का समर्थन महागठबंधन का होगा और बीजेपी को हराने के लिए काम किया जाएगा। उन्होंने दावा किया कि उनका एक भी व्यक्ति बीजेपी को वोट नहीं करेगा। यूपी की योगी सरकार ने एनएसए कानून के तहत जेल में बंद चंद्रशेखर को समय से पहले ही छोड़ने का फैसला किया था। उन्हें पिछले साल यूपी के सहारनपुर में हुई हिंसा के मामले में गिरफ्तार किया गया था।

माना जा रहा है कि दलितों की नाराजगी खत्म करने के लिए बीजेपी सरकार ने ये फैसला किया है। हालांकि रिहा होते ही रावण ने बीजेपी पर निशाना साधा है। देखने वाली बात तो ये होगी कि बीजेपी का ये दांव कहीं उल्टा तो नहीं पड़ जाएगा। माना जाता है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में भीम आर्मी ने काफी पैठ बना ली है। बीजेपी को लोकसभा के उपचुनावों में नुकसान पहुंचाने में भी भीम आर्मी की बड़ी भूमिका मानी जाती है। हालांकि बीएसपी से जुड़े लोग भीम आर्मी पर बोलने से बचते नजर आते हैं।

 

ये भी पढें:

 

उत्तराखंडः वित्त मंत्री प्रकाश पन्त ने “डिजास्टर रिस्क एसेसमेंट डाटा बेस’’ लांच किया
उत्तराखंडः जिला चिकित्सालय में वरिष्ठ फिजीशियन की नियुक्ति पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया

 

By: Ritu Raj