isro logo लिथियम आयन बैटरी बनाने के लिए BHEL ने ISRO से किया समझौता

भारत की बिजली उपकरण बनाने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भेल ने विभिन्न क्षमताओं वाली लिथियम आयन बैटरी के विनिर्माण के लिए इसरो के साथ प्रौद्योगिकी हस्तांतरण समझौता किया है। जिसके तहत कंपनी इस प्रौद्योगिकी के जरिये अंतरिक्ष स्तर के साथ विभिन्न क्षमता वाले सेल का निर्माण करेगी। इसे कंपनी का दायरा बढ़ाने की रीजनीति का हिस्सा कहा जा सकता है। लिथियम आयन बैटरी विनिर्माण से जुड़ी प्रौद्योगिकी का विकास भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने अपने विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र में किया है।

isro logo लिथियम आयन बैटरी बनाने के लिए BHEL ने ISRO से किया समझौता

भेल ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि समझौते पर भेल के निदेशक (इंजीनियरिंग, अनुसंधान एवं विकास) तथा विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी) के निदेशक एस सोमनाथ ने हस्ताक्षर किये। इस मौके पर अंतरिक्ष विभाग के सचिव तथा इसरो के चेयरमैन डा. के सिवन तथा भेल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक अतुल सोबती समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

 

इसरो अब तक अंतरिक्ष स्तर के लिथियम आयन सेल विदेशी कंपनियों से लेती है। भेल इसरो के उपग्रहों तथा प्रक्षेपण यानों के लिये आयातित सेल से अंतरिक्ष स्तर के लिथियम आयन बैटरी का एसेंबल करती और उसका परीक्षण करती है। इस प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण से भेल लिथियम आयन बैटरी इसरो तथा अन्य संबंधित कंपनियों के लिये बना सकेगी। लिथियम आयन प्रौद्योगिकी का उपयोग ऊर्जा भंडारण तथा इलेक्ट्रिक वाहनों में किया जा सकता है. भेल इस बैटरी के विनिर्माण के लिये बेंगलुरू के कारखाने में आधुनिक संयंत्र लगाएगी।

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिार को बलरामपुर पहुंचेंगे

Previous article

2002 के गुजरात दंगों को लेकर NCERT की किताबों में किया बदलाव

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured