featured यूपी

रूस – यूक्रेन विवाद: क्या विदेश से लौटे मेडिकल छात्रों का अधर में लटक जाएगा भविष्य?, भारत खबर पर ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने दी पूरी जानकारी

Screenshot 1356 रूस - यूक्रेन विवाद: क्या विदेश से लौटे मेडिकल छात्रों का अधर में लटक जाएगा भविष्य?, भारत खबर पर ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने दी पूरी जानकारी

shivnandan रूस - यूक्रेन विवाद: क्या विदेश से लौटे मेडिकल छात्रों का अधर में लटक जाएगा भविष्य?, भारत खबर पर ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने दी पूरी जानकारी शिवनंदन सिंह, संवाददाता

रूस और यूक्रेन में लड़ाई लगातार जारी है। हालांकि राज्य सरकारों द्वारा छात्रों को लाने का काम जोरों – शोरों से किया जा रहा है। ताकि वह सही सलामत अपने घर पहुंच सकें।

यह भी पढ़े

 

Electric scooters खरीदने वालों को लग सकता है झटका, जानिए कितने बढ़ सकते है दाम

यूक्रेन में छात्र मेडिकल की पढ़ाई कर रहें हैं। ऐसे में वहां तनाव होने के कारण छात्र पढ़ाई छोड़कर वापिस आ गए हैं। इसी कड़ी के चलते हमारे संवाददाता ने शिवनंदन सिंह ने ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी से बातचीत की। जिसमें उन्होंने बताया कि आने वाले दिनों में इन छात्रों के साथ क्या होगा।

Screenshot 1353 रूस - यूक्रेन विवाद: क्या विदेश से लौटे मेडिकल छात्रों का अधर में लटक जाएगा भविष्य?, भारत खबर पर ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने दी पूरी जानकारी

2021 की गाइडलाइन में बदलाव !

संदीप तिवारी ने बातचीत के दौरान जानकारी देते हुए कहा कि 2021 की गाइडलाइन में बदलाव किया गया है। एनएमसी चाहता है कि उसके छात्र यही रहकर मेडिकल की पढ़ाई करें। जिसके लिए अब एमबीबीएस की सीटें भी बढ़ाई गई हैं।

Screenshot 1354 रूस - यूक्रेन विवाद: क्या विदेश से लौटे मेडिकल छात्रों का अधर में लटक जाएगा भविष्य?, भारत खबर पर ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने दी पूरी जानकारी

1 साल की इंटरनशिप जरूरी

ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने बातचीत के दौरान बताया कि बाहर से मेडिकल की पढ़ाई करने वाले छात्रों को भारत में भी 1 साल की इंटरनशिप करना जरूरी है। विदेशी मरीजों की समस्याएं अलग है। जबकि भारत के मरीजों की दिक्कत और समस्याएं अलग है। ऐसे में वह 1 साल में इस माहौल में अपने आप को ढाल लेंगे। इसलिए एफएमजी को अपने ही मेडिकल संस्थान से 12 महीने की इंटर्नशिप पूरी करनी होगी।

Screenshot 1356 रूस - यूक्रेन विवाद: क्या विदेश से लौटे मेडिकल छात्रों का अधर में लटक जाएगा भविष्य?, भारत खबर पर ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने दी पूरी जानकारी

10 साल तक का है समय

ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने बताया कि विदेशों में एमबीबीएस के कोर्स की अवधि 6 वर्ष है। ऐसे में अब रूस और यूक्रेन में लड़ाई के चलते छात्रों को अपनी डिग्री पूरी करने के लिए 10 साल का समय दे दिया है। ताकि उनके भविष्य पर इसका कोई असर ना पड़े।

Screenshot 1355 रूस - यूक्रेन विवाद: क्या विदेश से लौटे मेडिकल छात्रों का अधर में लटक जाएगा भविष्य?, भारत खबर पर ट्रामा प्रभारी संदीप तिवारी ने दी पूरी जानकारी

Related posts

UP UNLOCK: उत्तर प्रदेश आदर्श व्यापार मंडल ने कहा- कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से करें पालन

Shailendra Singh

भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाए: शिवसेना

bharatkhabar

राम मंदिर ट्रस्ट:भ्रष्टाचार के आरोपों पर रखा अपना पक्ष, कहा बाजार भाव से कम कीमत पर खरीदी जमीन

sushil kumar