featured यूपी

बिकरूकांड: खुशी दुबे की याचिका पर सुनवाई टली, 5 दिनों की दुल्हन 11 महीने से काट रही है सजा

बिकरूकांड: खुशी दुबे की याचिका पर सुनवाई टली, 5 दिनों की दुल्हन 11 महीने से काट रही है सजा

लखनऊ: यूपी के बहुचर्चित बिकरूकांड के आरोपित अमर दुबे (Amar Dubey) की पत्नी खुशी दुबे (Khushi Dubey) की जमानत याचिका की सुनवाई बुधवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट में टल गई है। जेल की चाहरदीवारी में 11 महीनों से सजा काट रही खुशी दुबे ने कोर्ट से जमानत पर रिहाई की अपील की है।

बिकरूकांड: खुशी दुबे की याचिका पर सुनवाई टली, 5 दिनों की दुल्हन 11 महीने से काट रही है सजा

असल में 29 जून 2020 को खुशी दुबे ने अमर दुबे से शादी की रचाई थी। शादी के पांच दिन बाद बिकरूकांड हुआ था। महज पांच दिनों की दुल्हन एक बसर से बिकरुकांड का अंजाम भुगत रही है। बिकरूकांड के आरोपितों को स्पेशल टास्क फोर्स ने मार गिराया। इसी कड़ी में पुलिस ने अमर दुबे को एनकांउटर में ढेर कर दिया।

2 जुलाई को पूरा हो रहा है एक साल

गौरतलब है कि 02 जुलाई को बिकरूकांड का एक साल पूरा हो जाएगा। देर रात एक मुकदमें में वांछित गैंगस्टर विकास दुबे (Vikash Dubey) को पुलिस फोर्स पकड़ने गई तो प्लानिंग के तहत हिस्ट्रीशीटर और उसके साथियों से ताबड़तोड़ पुलिसटीम पर फायरिंग झोंक दी। गोली की आवाज और सैकड़ो राउंड फायरिंग से बिकरू गांव में मौत का तांडव शुरु हो गया। दिलदहला देने वाली इस घटना में सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा, एसओ शिवराजपुर महेश यादव, चौकी इंचार्ज मंधना अनूप कुमार, सब इंस्पेक्टर नेबूलाल, कांस्टेबल जितेंद्र पाल, सुल्तान सिंह, बबलू कुमार और राहुल शहीद हो गए थे।

बिकरूकांड: खुशी दुबे की याचिका पर सुनवाई टली, 5 दिनों की दुल्हन 11 महीने से काट रही है सजा

इस घटना के बाद योगी सरकार ने फौरन एक्शन प्लान तैयार किया। इसमें पुलिस ने विकास दुबे पकड़ने के लिए दबिश देनी शुरु कर दी। हालांकि, पुलिस की मदद से स्पेशल टास्क फोर्स ने एक-एक कर विकास दुबे के साथियों एनकांउटर में मार गिराया। इनमें राजा राम उर्फ प्रेमकुमार, अमर दुबे, प्रभात मिश्रा, प्रवीन शुक्ला उर्फ बउवन और अतुल दुबे का नाम शामिल है।

चार्जशीट नहीं हुई फाइल

हैरत की बात है बीते एक साल से जेल की चाहरदीवारी में कैद खुशी दुबे के खिलाफ पुलिस ने अब तक चार्जशीट तक फाइल नहीं की है। इन सबके बावजूद वह जेल में सजा काट रही है। कुछ दिन पहले तबीयत बिगड़ने पर खुशी दुबे लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि, खुशी की मदद के लिए एक बीजेपी नेता भी समाने आए हैं। तो खुशी दुबे ने भी जमानत के लिए याचिका ड़ाली है। फिलहाल यह कोर्ट तय करेगी कि खुशी को जमानत और इंसाफ कब दिया जाए।

Related posts

सदस्यता अभियान शुरू करेगी एबीवीपी, पूर्वी यूपी में बनाये जायेंगे 12 लाख सदस्य

Shailendra Singh

बुलंदशहर: मां-बेटी से सामूहिक दुष्कर्म मामले में 18 लोग हिरासत में

bharatkhabar

RTI Act: सरकारी रूपी सत्ता प्रतिष्ठान कि लोकायुक्त की जांच को अपने अधिकार में लेने की मांग

bharatkhabar