featured यूपी

अयोध्या सिटी डेवलपमेंट प्लान की तर्ज पर बदलेगी UP के 15 जिलों की तस्‍वीर

अयोध्या सिटी डेवलपमेंट प्लान की तर्ज पर बदलेगी UP के 15 जिलों की तस्‍वीर

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश के 15 जिलों की तस्‍वीर अयोध्‍या सिटी डेवलपमेंट प्‍लान की तर्ज पर बदलने वाली है। इसमें प्रदेश की राजधानी लखनऊ भी शामिल है। प्रशासन ने इसके लिए कार्य तेज कर दिया है।

यह भी पढ़ें: आगरा: किसान ने उगाई अनोखी मूली, वजन जानकर रह जाएंगे हैरान

इस दौरान राजधानी के धार्मिक स्‍थलों, ऐतिहासिक धरोहरों और संस्‍कृति पर पर्यटन की दृष्टिकोण से ध्‍यान दिया जाएगा। स्‍मार्ट लखनऊ के साथ ही पुराने लखनऊ की खूबसूरती संजोए रखने के लिए क्‍या करना चाहिए, इसे भी डीपीआर में शामिल करके तवज्‍जो दी जाएगी।

31 मई तक मांगी गई है रिपोर्ट

इसके अलावा इक्का तांगा से लेकर चिकन कारोबार और शहीद पथ की तरफ बसाए जा रहे नए लखनऊ को और बेहतर करने की योजना बनाई गई है। इसे लेकर शासन में हुई बैठक के बाद प्रत्‍येक शहर के प्राधिकरण को सलाहाकर नियुक्त करके डीपीआर बनाने के निर्देश दिए गए हैं। इसकी पूरी रिपोर्ट 31 मई, 2021 तक मांगी गई है।

प्रमुख सचिव के आवास पर हुई बैठक में अयोध्‍या सिटी डेवलपमेंट प्‍लान की तर्ज पर लखनऊ, प्रयागराज, मथुरा, वाराणसी, मेरठ, कानपुर और शाहजहांपुर समेत 15 जिलों को सभी क्षेत्रोंमें बेहतर करने की योजना और तैयारी है। इसके लिए शासन ने नगर विकास प्राधिकरण, लोक निर्माण विभाग और सिंचाई विभाग को मिलकर कार्य करने को कहा गया है, जिससे आने वाली समस्‍याओं को समय से दूर किया जा सके।

इन सवालों पर रहेगा ध्‍यान

सलाहकार को जनपद के इन विभागों के साथ समय-समय पर बैठक करनी होगी, जिसमें बताया जाएगा कि डीपीआर के लिए क्या फोकस करने की जरूरत है। शहर घूमने वाले लोगों की पंसदीदा चीज क्या है? पयर्टक सबसे ज्यादा कहां जाते हैं? कौन सी सड़क पर ज्यादा आवागमन है? साथ ही उन चीजों पर ध्‍यान दिया जाएगा जिनमें सुधार करते ही वह लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बन जाएं। इन कार्यों के लिए यूपी सरकार बजट भी डिटेल प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट यानी डीपीआर के हिसाब से चरणबद्ध तरीके से जारी करेगी।

अयोध्या सिटी डेवलपमेंट प्लान के बारे में

जानकारी के लिए बता दें कि अयोध्या सिटी डेवलपमेंट प्लान के तहत अयोध्या को तीर्थ स्थान की दृष्टिकोण से सुविधाओं से लैस किया जाएगा। इसके लिए राज्‍य सरकार ने कई करोड़ रुपये जारी किए हैं। राम नगरी में चौड़ी सड़क, सरकारी गेस्ट हाउस, नई टाउनशिप, यातायात की उचित सुविधाएं, सुरक्षा और निजी कंपनियों को निवेश के लिए बेहतर अवसर उपलब्ध कराने की योजना है। साथ ही सरयू की खूबसूरती, धार्मिकता व संस्कृति बनाए रखने के लिए मजबूत स्‍तर पर काम किया जाएगा। सरकार का लक्ष्‍य है कि अयोध्‍या आने वाला पर्यटक हर बार यहां आने को विवश हो।

Related posts

लोकसभा के बाद राज्यसभा में भी एसपीजी संशोधन बिल 2019 पारित, कांग्रेस के सदस्यों ने किया वॉकआउट

Rani Naqvi

राष्ट्रपति भवन में ट्रूडो का औपचारिक स्वागत, पीएम से की मुलाकात

Vijay Shrer

उत्तराखंड : अटल आयुष्मान योजना के तहत 27112 कैंसर पीड़ितों का हुआ निशुल्क इलाज

Neetu Rajbhar