featured देश यूपी राज्य

हरिद्वार की गंगा नदी में होगा अटल बिहारी वाजपेयी का अस्थि विसर्जन,योगी आदित्यनाथ भी रहेंगे मौजूद

हरिद्वार की गंगा नदी में होगा अटल बिहारी वाजपेयी का अस्थि विसर्जन,योगी आदित्यनाथ भी रहेंगे मौजूद

नई दिल्ली: देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियां हरिद्वार की गंगा नदी में प्रवाहित की जाएंगी। इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे।

 

yogi हरिद्वार की गंगा नदी में होगा अटल बिहारी वाजपेयी का अस्थि विसर्जन,योगी आदित्यनाथ भी रहेंगे मौजूद

 

ये भी पढें:

पीएम मोदी ने किया बाढ़ प्रभावित केरल का हवाई सर्वेक्षण,अब तक 324 लोगों की मौंत
केरल में बाद से तबाही,सीपीआई(एम) विधायक साजी चेरियन केरल के हालात को देख कर हुए भावुक

 

योगी ने अटल जी को पितातुल्य करार दिया था। उन्होंने अटल बिहारी के निधन को अपनी व्यक्तिगत क्षति बताया और कहा,” भारत की राजनीति में मूल्यों और आदर्शों को प्राथमिकता देने वाले, स्वतंत्र भारत के ढांचागत विकास के दूरदृष्टा, भारतीय राजनीति के शलाका पुरुष पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी का निधन भारत की राजनीति के महायुग का अवसान है।”

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि वे लोकप्रिय और सर्वमान्य नेता थे, जिनका सभी सम्मान करते थे। भारत के लोकतांत्रिक इतिहास में अटल जैसा विराट व्यक्तित्व मिलना कठिन है। उनका 6 दशक का निष्कलंक राजनैतिक जीवन हमेशा याद किया जाएगा। अटल ने राजनीति को मूल्यों और सिद्धांतों से जोड़कर देश में सुशासन की आधारशिला रखी थी।

 

इसके साथ ही योगी सरकार ने अटल बिहारी वाजपेयी की अस्थियों को यूपी की कई नदियों में प्रवाहित करने का फ़ैसला किया है। इस फ़ैसले को लागू करने के लिए छुट्टी के बावजूद बैठक हुई। अलग अलग जिलों के लिए अलग-अलग नदियों के नाम तय किए गए हैं। साथ ही ये भी फ़ैसला हुआ कि अटल जी से जुड़े जगहों को स्मारक बनाया जाए।

 

ये भी पढें:

बाढ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने पीएम मोदी पहुंचे केरल
केरल के बाद छह राज्यों भारी बारिश को लेकर मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

 

By: Ritu Raj

Related posts

‘वर्ल्ड फूड प्रोग्राम’ को मिला 2020 का नोबेल शांति पुरस्कार

Samar Khan

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अधिकारियों को लाॅकडाऊन को सख्ती से लागू करने के दिए निर्देश 

Rani Naqvi

पुतिन ने किम से कहा: कोरियाई प्रायद्वीप में ‘सकारात्मक’ प्रयासों को समर्थन देना चाहता है रूस

bharatkhabar