featured देश धर्म भारत खबर विशेष राज्य

अष्टमी स्पेशलःनवरात्रि के 8वें दिन होती है मां महागौरी की पूजा,कन्या पूजन से घर में होगी शांति

अष्टमी स्पेशलःनवरात्रि के 8वें दिन होती है मां महागौरी की पूजा,कन्या पूजन से घर में होगी शांति

अष्टमीः शारदीय नवरात्रि का आज आठवां दिन यानी कि अष्टमी है। अष्टमी को मां महागौरी की पूजा होती है।आज के दिन बहुत जगह  कन्या पूजन किया जाता है।अष्टमी को कन्या भोज भी होता है।कन्याओं का देवी के तौर पर पूजन किया जाता है। माना जाता है कि कन्या पूजन से घर में धन और शांति आती है।आपको बता दें कि कन्या पूजन नवमी को भी होता है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि अष्टमी को कन्या भोज एंव कन्या पूजन अधिक फलदाया होता है।माना जाता है कि मां दुर्गा का 8वां स्वरुप है महागौरी। नवरात्रि के 8वें दिन मां महागौरी की पूजा अर्चना होती है। देवी के आठवें स्वरूप को महागौरी के नाम से जानते हैं। मां महागौरी की पूजा करने से मन पवित्र हो जाता है। भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

 

अष्टमी स्पेशलःनवरात्रि के 8वें दिन होती है मां महागौरी की पूजा,कन्या पूजन से घर में होगी शांति
अष्टमी स्पेशलःनवरात्रि के 8वें दिन होती है मां महागौरी की पूजा,कन्या पूजन से घर में होगी शांति

इसे भी पढ़ेःउत्तराखंडः शारदीय नवरात्र के पावन पर्व पर महिलाओं ने निकाली कलश यात्रा

शिव को पति के रूप में पाने के लिए महागौरी ने कठोर तपस्या की थी

शास्त्रों में कहा गया है कि भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए महागौरी ने कठोर तपस्या की थी। इसीलिए मानते हैं अष्टमी को मां की पूजा करने से पसंद के जीवनसाथी मिलता है। मां महागौरी के आशीर्वाद से भक्तों को सभी सुख अपने–आप ही प्राप्त हो जाते हैं। मां की भक्ति से भक्तों के मन को शांति मिलती है। भक्त मां की उपासना से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार, संयम से समृद्ध होते हैं।गौरतलब है कि महागोरी की पूजा में नारियल, हलवा, पूड़ी और सब्जी का भोग लगाते हैं। काले चने का प्रसाद विशेष रूप से मां को अर्पित किया जाता है। पूजन के बाद कन्याओं को भोजन कराने से मां की विशेष कृपा होती है।मालूम हो कि  महागौरी माता का अन्नपूर्णा स्वरूप भी हैं। इसलिए कन्याओं को भोजन कराने और उनका पूजन-सम्मान करने से जीवन में धन, वैभव और सुख-शांति का विस्तार होता है।

इसे भी पढे़ःआज से शुरू हुआ शारदीय नवरात्र, देश भर के मंदिरों में भक्तों की भीड़

मां की विशेष कृपा पाने के लिए उपवास रखते हैं लोग

बता दें कि नवरात्रि का पर्व पूरे भारतवर्ष में बड़े ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है।नवरात्रि पर्व के सभी नौ दिनों मां दुर्गा के विभिन्न स्‍वरूपों की पूजा होती है। इस दौरान लोग मां की विशेष कृपा पाने के लिए उपवास रखते हैं।नवरात्रि की अष्टमी को कन्‍याओं का पूजन करने की मान्यता है।आज यानी कि 17 अक्‍टूबर को अष्‍टमी है। इस दिन महागौरी पूजन के साथ संधि पूजन और दुर्गा अष्टमी पूजन भी हता है। अष्‍टमी के दिन मां दुर्गा के आठवें रूप यानी महागौरी की पूजा की जाती है।

इसे भी पढ़ेःMP: दशहरे के बाद जारी की जाएगी कांग्रेस उम्मीदवारों की सूची

सुबह महागौरी की पूजा के बाद घर में नौ कन्‍याओं और एक बालक को भोज कराया जाता है।सभी कन्‍याओं और बालक की पूजा करने के बाद हल्‍वा, पूरी और चने का प्रसाद खिलाते है।अष्टमी के दिन पूजा पंडालों में अस्‍त्र-शस्त्रों की पूजा और पूजा भी होती है। रात्रि को कई तरह के भक्ति कार्यक्रमों का आयोजन होता है।कन्या पूजन के लिए सही समय सुबह 6 बजकर 28 मिनट से 9 बजकर 20 मिनट है। सुबह 10 बजकर 46 मिनट से दोपहर 12 बजकर 12 मिनट तक भी कन्या पूजन के लिए सही समय है।

कन्या पूजन कि विधी-

अष्टमी को कन्‍या पूजन के लिए मन-क्रम वचन से शुद्ध होकर भगवान गणेश एवं महागौरी की पूजा करते हैं।कन्‍या पूजन के लिए 2 साल से लेकर 10 साल तक की नौ कन्‍याओं और एक बालक को बुलाते हैं। सभी कन्‍याओं को बैठने के लिए आसन देना चाहिए। सभी कन्‍याओं के पैर धुलते हैं। साथ ही रोली, कुमकुम,अक्षत का टीका लागाकर उनके हाथ में मौली बांधते हैं। अंत में सभी कन्याओं एवं एक बालक की घी से ज्वलित दीपक से आरती करते हैं। और बाद में उपहार भेंट करके उन्हें वदा करते हैं।

maheshkumar 1 5 अष्टमी स्पेशलःनवरात्रि के 8वें दिन होती है मां महागौरी की पूजा,कन्या पूजन से घर में होगी शांति

 महेश कुमार यादव

Related posts

इंडोनेशिया में भूकंप के झटकों से लोम्बोक आईलैंड अपनी जगह से 25 सेंटीमीटर खिसका

rituraj

LIVE: कोरोना वायरस को टक्कर देने पर भारत की सब जगह चर्चा: पीएम मोदी

Rani Naqvi

कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज़ ले चुके जिलाधिकारी उन्नाव और आईजी कोरोना पॉज़िटिव

Aditya Mishra