September 25, 2021 11:09 pm
featured राजस्थान

अशोक गहलोत इस तरह एक तीर से करना चाहते दो शिकार, जाने क्या है उनकी चाल

राजस्थान में छिड़ी बहस, अशोक गहलोत ने खुद को बताया सीएम

राजस्थान में शुरू हुई सीएम अशोक गहलोत और पूर्व प्रेदश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट बीच सियासी जंग खत्म होना का नाम नहीं ले रही है

जयपुर। राजस्थान में शुरू हुई सीएम अशोक गहलोत और पूर्व प्रेदश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट बीच सियासी जंग खत्म होना का नाम नहीं ले रही है बल्कि इस जंग में हर दिन एक नया मोड़ आ जाता है। लगता है अदालत तर पहुंची ये जंग लंबी चलने वाली है। इसी बीच अशोक गहलोत ने विधानसभा सत्र के जरिए अपने लिए बढ़त बनाने का दांव चला है। इसके  लिए गहलोत राजभवन पर उतर आएं हैं।

बता दें कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उनके रणनीतिकार मानते हैं कि अदालत में यह लड़ाई लंबी चलेगी। गहलोत अब विधानसभा के अंदर अपना बहुमत साबित कर अपनी बढ़त बनाना चाहते हैं। विधानसभा में बहुमत साबित करने से गहलोत के एक साथ दो फायदे हैं। इसलिए, उनकी कोशिश है जल्द से जल्द सत्र बुलाया जाए।

वहीं विधानसभा में बहुमत साबित करने से पायलट और उनके समर्थकों का यह दावा गलत साबित हो जाएगा कि सरकार अल्पमत में हैं। पर इससे ज्यादा बड़ा फायदा यह होगा कि मुख्यमंत्री को अपने समर्थकों को होटल में संभाल कर नहीं रखना पड़ेगा। गहलोत के पास फिलहाल बहुमत है। गहलोत पुराने राजनीतिज्ञ है, ऐसे में वह जानते हैं कि मौजूदा राजनीतिक परिस्थितियों में इसे संभालकर रखना मुश्किल है।

https://www.bharatkhabar.com/amrapali-dubeys-earnings-in-bhojpuri-films/

बहुमत साबित करने के बाद गहलोत सरकार को अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए वक्त मिल जाएगा। इसके साथ सचिन पायलट और उनके समर्थकों पर एक और नोटिस की तलवार लटक जाएगी। क्योंकि, पायलट और उनके समर्थक गहलोत सरकार के खिलाफ वोट करते हैं, तो उन्हें फिर नोटिस जारी किया जा सकता है।

पार्टी के एक नेता ने कहा कि विधानसभा की कार्यवाही के लिए जारी किए व्हिप के उल्लंघन के बाद पायलट और उनके समर्थकों के पास कानूनी तौर पर ज्यादा विकल्प नहीं बचेंगे। यही वजह है कि भाजपा विधानसभा का सत्र बुलाने की इजाजत देने में देर कर रही है। पर राज्यपाल को आखिरकार इसकी इजाजत देनी होगी।

इस बीच, पार्टी के अंदर इस पर भी मंथन चल रहा है कि वह इस पूरे सियासी घटनाक्रम से राजनीतिक तौर पर लड़ने में विफल रही है। कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि इस पूरी लड़ाई में हमारी तरफ से गलतियां हुईं हैं। राज्यसभा चुनाव के फौरन बाद ही पार्टी विरोधी  गतिविधियों में लिप्त विधायकों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए थी।

Related posts

कैटरीना कैफ की बहन ने बिकनी में शेयर की फोटो, सोशल मीडिया हर तरफ छाई एक्ट्रेस की बहन

Shailendra Singh

पीएम मोदी ने गोरखपुर में एम्स, खाद फैक्ट्री की आधारशिला रखी

bharatkhabar

चौरी चौरा के शताब्दी वर्ष सम्मेलन में शामिल हुए पीएम मोदी, जानें क्या बोले पीएम

sushil kumar