January 24, 2022 4:42 pm
featured भारत खबर विशेष

चांद पर सबसे पहले कदम रखने वाले दो यान दशकों बाद हुए एक..

yaan 2 चांद पर सबसे पहले कदम रखने वाले दो यान दशकों बाद हुए एक..

आपने अपोलो और सोयूज यान का नाम सुना होगा। ये दो इकलौते ऐसे यान है। जिन्हें इतिहास आज भी चंद्रमा पर पहले कदम रखने वाले यानों के तौर पर पर जानता है। इन यानों को चंद्रमां पर भेजने में भले ही अमेरिका और रूस की मेहनत रही हो। लेकिन क्या आप जानते हैं। चांद पर सबसे पहले एक भारतीय को भेजा गया था। रूस के सोयुज-टी से भारत के राकेश शर्मा सबसे पहले अंतरिक्ष में भेजा गया था।

yaan 2 1 चांद पर सबसे पहले कदम रखने वाले दो यान दशकों बाद हुए एक..
चांद के रहस्यों को पता लगाने के लिए चांद पर भेजे गए मिशन यान में अमेरिका, रूस और चीन का योगदान सर्वाधिक है। संयुक्त राज्य अमेरिका और रूस ने चांद के रहस्यों का पता लगाने के लिए कई कार्यक्रम की शुरुआत की।

इसी कड़ी में 15 और 16 जुलाई 1975 को अमरीकी अन्तरिक्षयात्रियों ने साथ साथ अपोलो और सोयूज यानों को भेजा गया था। 16 जुलाई को दोपहर के बाद दोनों यान एक दूसरे से जुदा हुए और एक बार फिर मिले। अपोलो और सोयूज दोनों अलग-अलग यान थे।

https://www.bharatkhabar.com/university-of-oxford-got-this-big-breakthrough-in-initial-testing-of-corona-vaccine/

अपोलो अमेरिका का यान था तो वहीं सोयूज रूस का यान था। 1975 को जब इन दोनों यानों को अंतरिक्ष पर भेजा गया तो वो अलग हो गये थे। लेकिन आज 55 सालों के बाद दोनों यान एक साथ मिल गये हैं। आपको बता दें, इस महत्वपूर्ण अभियान में भारत का भी योगदान था। आज इस अभियान के सालों बाद ट्विटर पर भारत में काम करने वाली कंपनी रसिया इन इंडिया ने इस खास मिशन में गये अपोलो और सोयूज यानों के एक होने की खबर दी है।

Related posts

जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से की गई गोलीबारी की चपेट में आकर 2 सैनिक शहीद

Shubham Gupta

बिहार पुलिस में फायरमैन की बंपर भर्ती, केंद्रीय चयन बोर्ड ऑफ कांस्टेबल, बिहार ने जारी किया नोटिफिकेशन

Aman Sharma

केरल के नाथ संप्रदाय मंदिर में योगी की पूजा अर्चना, अन्नपूर्णा भंडार का किया उद्घाटन

Aditya Mishra